आधासीसी के दर्द (Migraine) का घरेलू इलाज

Migraine Headache Treatment At Home in hindi

पारंपरिक रूप से सिरदर्द एकतरफा, चुभने वाला और मध्यम से गंभीर तीव्रता वाला होता है । आमतौर पर यह धीरे-धीरे आता है और शारीरिक गतिविधि के साथ बढ़ता है । यह दर्द पुरुषों की अपेक्षा स्त्रियों को Migraine Headache Treatment At Home in hindiअधिक होता है | कई बार आधासीसी या अधार्वभेदक (Migraine) का दर्द एक विशेष समय पर प्रारंभ होकर, कम-से-कम दो घंटे अथवा दो दिन के बाद स्वयं समाप्त हो जाता है |

कारण

रोग के कारणों के संबंध में विशेष कुछ नहीं कहा जा सकता | परंतु कुछ विशेषज्ञों का विचार है कि सिर की रक्तवाहिनी नाड़ियों में विशेष प्रकार की संवेदना से यह दर्द प्रारंभ हो जाता है | यह रोग आनुवांशिक भी हो सकता है | कई व्यक्तियों को खट्टे फल, चॉकलेट, पनीर तथा शराब आदि पीने से भी यह दर्द आरम्भ हो जाता है | स्त्रियों को मासिक धर्म आरंभ होने के समय भी कई बार यह दर्द उत्पन्न हो जाता है |

लक्षण

यह दर्द सिर के एक भाग में होता है | इस दर्द का संबंध आखों की कमजोरी, मितली तथा उल्टियां आदि आने से भी है | कई बार इसके रोगी को चक्कर आने लगते हैं | मूर्छा सी छाने लगती है और आंखों, कान और गालों के आस-पास तेज दर्द होने लगता है | आंखों से पानी निकलता है | नाक बन्द हो जाती है | कुछ व्यक्ति आधे सिर के दर्द से अंधे भी हो सकते हैं | परंतु ऐसी संभावना बहुत कम लोगों में ही रहती है |

उपचार

1. आधासीसी के रोगी को कमरे में अंधेरा करके आराम से लेट जाना चाहिए | अधिक कष्ट होने पर ऐस्पीरीन आदि लेने से दर्द में आराम होता है |

2. प्रात:काल देशी घी हल्का गरम करें | जब सहन करने योग्य स्थिति में आ जाए तो रोगी को लिटाकर मुंह थोड़ा ऊंचा करें और साफ मेडिकेटिड रूई से दो-दो, चार-चार बूंदें उसकी नाक में टपकाएं | रोगी को आराम मिलेगा | कुछ दिन ऐसा करने से यह रोग सदा के लिए समाप्त हो जाता है |

3. सिर के जिस भाग में दर्द हो, पहले उस ओर के नथुने में घी की बूंदें टपकानी चाहिए | गरम करके ठण्डा किया हुआ सरसों का तेल भी उस ओर के नथुने में डालने अथवा सूघने से दर्द दूर होता है | पांच-सात दिन ऐसा करने से व्यक्ति रोगमुक्त हो जाता है |

4. लहसुन बारीक पीसकर जिस ओर सिर में दर्द हो उस ओर लगाने से दर्द समाप्त हो जाता है | अधिक देर तक लहसुन का लेप लगे रहने से त्वचा पर फफोले हो सकते हैं | इसलिए लेप करते समय सावधान रहना चाहिए | साफ करने के बाद बोरोलीन या मक्खन आदि लगाना चाहिए |

5. रात को सोते समय पैरों के तलवों में, विशेषकर बीच के भाग में मालिश करने से अचानक होने वाला सिरदर्द ठीक हो जाता है |

6. लौंग अथवा पुदीने को पीसकर दर्द वाली कनपटी पर लगाने से सिरदर्द में लाभ होता है |

7. सिर, माथे अथवा कनपटी में सर्दी लगने से दर्द हो तो जायफल पीसकर लेप करने से लाभ होता है |

8. छाया में सुखाए हुए तुलसी के पत्तों को मसलकर रोगी को सुंघाने से भी सिरदर्द में आराम मिलता है |

9. सिरदर्द अथवा आधासीसी के दर्द में प्रायः लोग सिर पर पट्टी बांध लेते हैं | यदि पट्टी बांधने से पहले सिर की हल्की मालिश कर ली जाए तो काफी शांति मिलती है |

10. अनेक रोगियों का सिरदर्द सूर्य के साथ घटता-बढ़ता रहता है | ऐसे रोगियों को यदि सूर्योदय से पूर्व गरम दूध में जलेबी मिलाकर खिलाई जाए तो लाभ होता है | अनेक रोगियों को सूर्योदय से पूर्व दही, चावल और मिश्री मिलाकर खिलाने से भी सिरदर्द ठीक होता है |

11. सिरदर्द के रोगी नियमित रूप से प्रात:काल देसी घी में काली मिर्च व मिश्री मिलाकर खाएं तो उन्हें लाभ होता है |

12. आधे सिर के दर्द में शहद भी लाभदायक है | अचानक सिरदर्द के समय उल्टी होने की स्थिति में मुंह साफ करके, दो चम्मच शहद चाटने से लाभ होता है |

13. तुलसी के पत्तों के चूर्ण में शहद मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें |

14. पान के पत्ते को हल्का-सा गरम करके सिर के जिस भाग में दर्द हो, वहां लगाने से लाभ होता है |

15. अजवाइन को कोयले अथवा तवे पर भूनकर सूघने अथवा उसका चूर्ण नसवार की तरह लेना भी प्रभावकारी कहा गया है |

16. पिसी हुई लौंग में थोड़ा नमक मिलाकर दूध में पेस्ट-सा बनाकर लेप करने से सिरदर्द में आराम होता है |

17. अदरक का रस भी अनेक प्रकार के दर्दो को शान्त करने में बहुत ही उपयोगी है | अदरक के रस की मलहम की तरह लगाने अथवा सौंठ के चूर्ण को पानी में लुगदी बनाकर लगाने से सिरदर्द में लाभ होता है |

loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*