बालों का असमय सफेद होना

home remedies for white hair

वृद्धावस्था में बालों का सफेद होना अखरता नहीं परंतु जब बाल असमय सफेद होने लगते हैं तो बहुत से home remedies for white hairलोग बालों को खिजाब अथवा काली मेहंदी से रंगने लगते हैं, जो एक हानिकारक प्रक्रिया है |

बालों का असमय सफेद होने का कारण

जब बालों को सिर की त्वचा से पोषक तत्व नहीं मिलते तो बाल सफेद होने लगते हैं | वैसे बालों का स्वाभाविक रंग काला ही है परन्तु पश्चिमी देशों के अधिकांश युवक-युवतियों के बाल सुनहरे होते हैं | जलवायु, वातावरण और बालों को रंग देने वाली मेलेनिन ग्रंथियों में परिवर्तन के कारण ऐसा होता है |

मेलेनिन तत्व में कमी, अधिक चिन्ता, रात्रि में अधिक देर तक बिजली की रोशनी में काम, असमय अथवा गलत ढंग से सम्भोग, जुकाम रहने, सिर में रक्त भ्रमण सुचारु न होने, रोगों के विष तथा क्रोध, कब्ज, भोजन में विटामिन-B, आयरन, जस्ता और आयोडीन की कमी आदि कारणों से बाल असमय सफेद होने लगते हैं | ऐसे भी अनेक उदाहरण मिलते हैं जिनमें अत्यन्त चिन्ता, शोक अथवा सम्मान में भारी कमी आने से 24 घंटे के अन्दर ही सुन्दर-सजीले जवानों और सुन्दर युवतियों के बाल सफेद हो गए |

बालों का असमय सफेद होने पर उपचार

1. बालों को प्राकृतिक ढंग से काले करने के लिए आधा किलो सरसों या तिल्ली का तेल लेकर रतनजोत, काली मेहंदी, आम की गुठली और आंवला 50-50 ग्राम कूट लें और आधा किलो पानी में उबाल लें | जब पानी आधा रह जाए तो आंच पर से उतार लें | रातभर इसी प्रकार पड़ा रहने दें | अगले दिन उसे तेल में डालकर धीमी आांच पर तब तक पकाएं जब तक पानी जल न जाए | छानकर बोतलों में भर लें और स्नान के बाद बालों के सूखने पर सिर में बालों की जड़ों में लगाएं | बाल, काले, सुन्दर और चमकदार होने लगेंगे  |

2. कॉफी पाउडर एक चम्मच, रतनजीत, काली मेंहदी एक-एक चम्मच लेकर 250 ग्राम तिल्ली या नारियल के तेल में पका लें | यदि बाल सफेद होने लगे हैं और बालों की सफेदी के कारण चिन्ता सताने लगी हो तो इस तेल को लगाने से बालों में कालापन बना रहेगा |

3. दही में पिसी काली मिर्च और नीबू का रस निचोड़कर स्नान से पूर्व आधा घंटा सिर में लगा रहने दें | सर्दियों में दही थोड़ा गरम कर सकते हैं | गर्मियों में इससे सिर में तरावट भी रहेगी  |

4. सूखे आंवले के पानी से सिर धोते रहने से बाल सफेद नहीं होते | इससे बालों की रूसी भी समाप्त हो जाती है | अधिक क्रोध तथा चिन्ता से बचना चाहिए | नजले-जुकाम का भी बालों पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है | जुकाम की चिकित्सा गरम नीबू पानी से करें, क्रोध आने पर एक गिलास पानी पीकर पार्क में घूमने चले जाएं | इस प्रकार अन्य रोगों से बचने के अतिरिक्त बाल भी असमय सफेद नहीं होंगे  |

5. नजले-जुकाम के कारण बाल सफेद होने लगें तो कफनाशक वस्तुओं का प्रयोग करें |

6. एक उपाय यह भी है-प्रातः और सायंकाल के समय खाना खाने से कम-से-कम एक घंटा पूर्व 8-10 काली मिर्च चबाकर दो घूंट गरम जल पी लें | इससे कफ के कारण होने वाले केश विकार नष्ट होंगे | यह प्रयोग नियमित रूप से करें |

7. उक्त प्रयोग के साथ यदि काली मिर्च पीसकर तिल के तेल में मिलाकर सिर में बालों की जड़ों-खोपड़ी में मसलें तो अधिक लाभ होगा |

loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*