दही से बनाएं सेहत और सौंदर्य

Benefits Of Curd In Hindi.

सेहत ओर सोंदर्य को बरकरार रखने के लिए दही का सेवन तो करें जरूर पर इस से जुड़ी फायदे-नुकसान की कुछ बातों को ध्यान में रख कर…

दही यानी दूध का जमा रूप | यह खाया तो पूरे भारत में जाता है, परंतु इस के खाने का अंदाज हर जगह अलग-अलग होता है यानी कहीं रायता, कढ़ी के रूप में तो कहीं लस्सी के रूप में, कहीं कर्ड राइस के रूप में तो कहीं श्रीखंड के रूप में | दही की खासीयत यह है कि यह सेहत, स्वाद और सौंदर्य उपचार से भरपूर होता है |

सेहत

पौष्टिकता के मामले में दही दूध से कम नहीं होता है | यह कैल्सियम तत्त्व के साथ तैयार होता है | इस में शुगर प्रोटीन और फैट्स की साधारण उपस्थिति होती है | इसलिए दही को प्रीडाइजैस्टेड फूड भी कहा जाता है, जो शिशुओं के लिए भी उपयोगी होता है | जो लोग लैक्टोस को सहन नहीँ कर सकते हैं वे दही का सेवन कर सकते हैं | दही में मिलने वाले फासफोरस और विटामिन डी के साथ-साथ कैल्सियम को ऐसिड के रूप में समा लेने की भी खूबी होती है इसलिए बचपन में दही का पर्याप्त सेवन करने से आगे चल कर हड्डियों से संबंधित परेशानियां नहीं होती हैं |

दही में मौजूद उत्तम किस्म के बैक्टीरिया के लाभ कम नहीं हैं | शरीर के रक्ततंत्र में इन्फैक्शन से लड़ने वाले व्हाइट ब्लड सैल्स को बढ़ाने और शरीर की रोगप्रतिरोधी क्षमता सक्रिय करने में भी उत्तम बैक्टीरिया का योगदान महत्त्वपूर्ण होता है | बड़ेबुजुर्गों के लिए भी दही का सेवन लाभकारी होता है | लंबी बीमारी के दौरान तथा ऐंटीबायोटिक थेरैपी के दौरान और उस के बाद भी दही का सेवन विशेष लाभकारी होता है |

एक रिसर्च के मुताबिक रोज 250 ग्राम दही खाने से कैंडिडा इन्फैक्शन द्वारा होने वाले छालों से भी राहत मिलती है | दिन में 2-3 बार प्रभावित जगह पर दही लगाने से खारिश मिटाने और इन्फैक्शन दूर करने में मदद मिलती है |

इतना ही नहीं, दही में ब्लड कोलैस्ट्रौल को कम करने व पेट की बीमारियों को खत्म करने के साथ-साथ कैंसर और हृदयरोग को रोकने की भी क्षमता होती है |

स्वाद

खाने में स्वाद बढ़ाने के लिए दही का इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है | आइसक्रीम बनाने से ले कर मिठाई, दाल, सब्जी, चिकन आदि तक में दही इस्तेमाल किया जाता है |

इस बारे में शैफ का कहना है कि तंदूरी चिकन में इस का उपयोग ग्रेवी को गाढ़ा बनाने में मदद करता है | इस से मिर्च का तीखापन भी कम हो जाता है | इसे आप अपने पसंदीदा फलों के साथ मिला कर भी खा सकती हैं | अच्छा होगा यदि आप चीनी के बजाय दही में प्राकृतिक शुगर जैसे हनी या फूट मिला कर सेवन करें | रायते का स्वाद बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रकार के फलों, सब्जियों तथा तड़कों का प्रयोग किया जा सकता है जैसे- सरसों, हींग, करीपत्ता और पुदीनापत्ती आदि |

सौंदर्य

दही न केवल स्वास्थ्य व स्वाद की दृष्टि से बल्कि सौंदर्य के लिहाज से भी उपयोगी है | सौंदर्य प्रसाधन के रूप में दही की सब से बड़ी विशेषता यह है कि इस का प्रयोग बिना कोई प्रतिकूल असर डाले ही दीर्घकालिक सौंदर्य प्रदान करता है | त्वचा की सफाई के लिए बेसन में दही एवं चुटकी भर हलदी मिला कर लगाएं | इसी तरह मृत त्वचा को हटाने के लिए दही में चावल का आटा मिला कर स्क्रब के तौर पर इस्तेमाल करें | गरमी के दिनों में सनबर्न से झुलसे चेहरे पर दही का प्रयोग शीतलता प्रदान करता है |

फेस पैक बनाने में भी दही का उपयोग बखूबी किया जा सकता है | चेहरे के अलावा बालों की खूबसूरती बढ़ाने में भी दही काफी मददगार होता है, क्योंकि इस में वे सभी पोषक तत्त्व पाए जाते हैं जो स्वस्थ बालों के लिए आवश्यक होते हैं | इस के लिए दही को बालों में अच्छी तरह से लगा कर उंगलियों से मालिश करें | आधे घंटे बाद शैपू से धो लें | ऐसा करने से बाल चमकदार और डैंड्रफ रहित हो जाएंगे |

सावधानी

दही का प्रयोग करते समय कुछ सावधानियां भी अवश्य बरतें | तभी आप इस से होने वाले फायदों का लाभ उठा सकती हैं | यदि आप अपने मोटापे को कम करना चाहती हैं, तो सब से पहले कभी दही को फुल फैट मिल्क से तैयार न करें ताकि अतिरिक्त फैट और कैलोरी आप के शरीर में समा न पाए | दही खाते समय यह ध्यान रखें कि वह ताजा हो | 12 घंटे बीत जाने के बाद दही की गुणवत्ता कम होने लगती है | अधिक खट्ठा दही अग्नि को प्रदीप्त करने वाला, पित्त रक्त को बिगाड़ने वाला और कफ को बढ़ाने वाला होता है | रात में सफेद दही खाने के बजाय उस में अरहर या मूंग की दाल मिला कर सेवन करें या फिर रायता बना कर | सर्दी के दिनों में हमेशा ताजा जमी दही प्रयोग में लाएं | इसे फ्रिज में न रखें |

loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*