दाद (एग्जिमा) का घरेलू इलाज

home remedy for eczema

एग्जिमा त्वचा में जलन और खुजली का रोग है | खुजली करने से त्वचा का वह स्थान लाल हो जाता है और वहां से सफेद छिलके-से उतरने लगते हैं |

दाद (एग्जिमा) होने का कारण

एग्जिमा कई प्रकार का होता है और इसके कारण भी कई हो सकते हैं | जैसे एलर्जी, वंश परंपरा अथवा किसी प्रकार का तनाव आदि होना |

दाद (एग्जिमा) होने के लक्षण

मुख्य रूप से यह तीन प्रकार का होता है-

1. बच्चों को होने वाला एक्जीमा

यह एग्जिमा कुछ महीने के शिशु को भी हो सकता है | पहले मुंह पर दाने से निकलते हैं, फिर शरीर के अन्य भाग भी प्रभावित हो जाते हैं | बच्चा बार-बार त्वचा खुजलाता है और परेशान होता है |

2. सम्पर्क में आने से होने वाला एक्जीमा

इसमें यदि किसी वस्तु से एलर्जी है तो उसके सम्पर्क में आने से एग्जिमा अथवा दाद हो सकता है—उदाहरण के लिए बहुत सी औरतों को गहने पहनने से एलर्जी होने के कारण एग्जिमा हो सकता है | कुछ पौधे, फूल या सौंदर्य प्रसाधन सामग्री भी इसका कारण हो सकती है |

3. खुजलीवाला एक्जीमा

तीसरे प्रकार के एग्जिमा में खुजली से बहुत अधिक बेचैनी होती है | इस प्रकार का एक्जीमा कपड़े धोने के साबुन या डिटर्जेन्ट पाउडर के प्रयोग से प्रायः हो जाता है |

उपचार

1. इस रोग के उपचार के लिए चिकित्सक स्टेराइड क्रीम, लोशन या एण्टीबायटिक दवाएं देते हैं | कीकर (बबूल) और आम के पेड़ की 25-25 ग्राम छाल लेकर एक लीटर पानी में उबालें | इसकी भाप से एग्जिमा प्रभावित स्थान को सेकें | इसके बाद इस भाग पर देसी धी लगा दें |

2. मकोय का रस पीने और एग्जिमा के स्थान पर इस रस को लगाने से आराम मिलता है | रस की मात्रा 150 से 210 मि.ली. तक रखें |

3. नीम रक्त विकारों में बहुत ही लाभकारी है | पाव भर सरसों के तेल में नीम की 50 ग्राम के लगभग कोंपलें पकाएं | कोंपले काली होते ही तेल नीचे उतार लें | छानकर बोतल में रखें और दिन में थोड़ा-थोड़ा एग्जिमा प्रभावित स्थान पर लगाएं | नीम की कोंपलों का रस 10 ग्राम की मात्रा में नित्य सेवन करते रहने से भी एक्जीमा ठीक हो जाता है |

4. तुलसी के पत्तों का रस पीने और लगाते रहने से लाभ होता है |

5. तिल और तारेमीरे के तेल की समान मात्रा में दो चम्मच पिसी हुई दाल मिलाएं, जिससे मलहम सा बन जाए | उसमें दवाइयों के काम आने वाला मोम एक चम्मच के लगभग मिला दें | इसमें सरसों के तेल के दीपक से बनाया गया थोड़ा काजल मिलाएं | मलहम तैयार है | इसे दाद, फोड़े-फुन्सियों पर लगाने से लाभ होता है |

6. छाछ में एक साफ कपड़े का टुकड़ा भिगोकर त्वचा पर जलन, खुजली और बेचैनी वाले स्थान पर रखें | जितनी अधिक देर रख सकें, रखें | फिर उस स्थान को भली प्रकार साफ कर दें |

7. अब यह सिद्ध हो चुका है कि एग्जिमा, दाद आदि लाइनोलिक एसिड की कमी से होता है | इसके लिए सूरजमुखी का तेल लाभदायक होता है | प्रतिदिन दो चम्मच तेल पीएं | रोग में सुधार होने के बाद मात्रा कम कर दें |

8. चने के आटे में पानी मिलाकर पेस्ट सा बनाकर त्वचा के विकारग्रस्त स्थान पर लगाने से लाभ होता है | चने के आटे का उबटन के रूप में प्रयोग से मेकअप से होने वाला एक्जीमा भी ठीक हो जाता है |

9. खुबानी के पत्तों के रस का दाद-खाज पर प्रयोग करना भी लाभदायक है |

loading...

11 Comments

  1. sir mere dono pairo me 2007 se agzima ho raha me davai khata hu to kam ho jata h chord deta hu to fhir dowara ho jata h or ye khatam ni ho pa raha h or Ab to ye mere hatho me bhi felne laga h please sir koi upay bataiye me bahot paresan hu iske mare

  2. mere dono pairo me khujli hoti hai or khujlane ke bad waha ghaw nikal aata hai jo yellow colour ka hota hai phele sirf chakta jaisa banta tha par aab to ghaw hone laga hai humko chalne me bhi dikat hota hai please iska koi aisa upay batay jo ise jar se khatam kar de aur mujhe santi mile

  3. ASHISH KUMAR
    Sir, Mujhe pure body me last 2 mahino se KHUJLI ki problam hai. Body ke kisi bhi hisse par Khujli hoti hai aur Twacha par lal chakatta sa parkar soojan aa jati hai. Sir help me.

  4. mujhe bahut dino se jangho par, hath me khujli jaisa, ho gaya hai koi cream lagata hu to aaram rahata hai phir chor dene par badhne lagta hai aur chakte nikalne lagta hai yah lagbhag 1 sal se, hora hai

    • Sir mere kamar pe our kamar me niche jangho per eczima ho gaya hai doctor ko bhi dikhaya per koi fayada nahi hua ye samasya ek saal she hai koi gharelu upachar bataye Jise hamesa me liye thik ho jaye

  5. मैं कोई क् भी साबुन से स्नान करने पर नहाते समय और नहाने के पांच मिनिट तक हलकी हलकी सी पुरे शारीर में खुजली होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*