पेट के कैंसर का घरेलू इलाज

Home Remedies For Bowel Cancer.

इस स्थान पर कैंसर होने का कारण विशेष तो मालूम नहीं हो पाया है, परंतु ऐसा विश्वास है कि चालीस वर्षHome Remedies For Bowel Cancer. से अधिक आयु के व्यक्तियों को आंतों का कैंसर होने की संभावना अधिक रहती है | आयु के बढ़ने के साथ ही इसकी आशंका और अधिक बढ़ जाती है |

पेट के कैंसर का कारण

भोजन में अनियमितता के कारण भी इस रोग के होने की संभावना रहती है |

पेट के कैंसर के लक्षण

आंतों के कैंसर के मुख्य लक्षण हैं कि या तो रोगी को अत्यधिक कब्ज रहने लगता है अथवा लगातार दस्त आते रहते हैं | आतों के कैंसर का कुछ विशिष्ट परीक्षणों से ही पता चलता है | मल के परीक्षण से भी इस रोग की जांच हो सकती है |

पेट के कैंसर का उपचार

यदि कैंसर बहुत अधिक फैल गया हो या मलाशय का भाग भी इससे प्रभावित हो तो शल्य चिकित्सा द्वारा इस भाग को बाहर निकाल दिया जाता है | कुछ चिकित्सकों का मानना है कि आंतों अथवा पेट के कैंसर में उपचार प्रारंभ करने से पूर्व रोगी को एक-दो दिन उपवास कराएं |

1. उपवास के दिनों में रोगी को अंगूर का सेवन करना चाहिए | इन दिनों हल्का विरेचक लेने से आंतों को आराम मिलता है | पेट के रोगों में छाछ अमृत के समान काम करती है | कैंसर के रोगी का पेट साफ करने के बाद एक-दो दिन अंगूर देकर फिर उसे छाछ का सेवन कराएं | इन दिनों अन्य कोई चीज खाने को नहीं देनी चाहिए | कैंसर के रोगी को बहुत धीरे-धीरे लाभ होता है | इसलिए घबराने की आवश्यकता नहीं है | कैंसर के रोगी को अंगूर का रस देने पर कभी-कभी पेट में दर्द या मलद्वार में जलन होती है | लेकिन यह कोई चिन्ता की बात नहीं |

2. गाजर का रस पीने से पेट के कैंसर में लाभ होता है |

3. फूलगोभी का रस भी आंतों के कैंसर में लाभ पहुंचाता है | नित्य प्रातःकाल भूखे पेट फूलगोभी का आधा अथवा पौन कप रस पीते रहने से आंतों के कैंसर में लाभ होता है |

4. प्रात:काल गांठगोभी का आधा कप रस प्रतिदिन देने से आंतों का कैंसर ठीक होने में सहायता मिलती है |

5. लहसुन का प्रतिदिन प्रयोग करने से व्यक्ति पेट के कैंसर से बचा रह सकता है | लहसुन की कुछ मात्रा प्रतिदिन रगड़कर और पानी में घोलकर कुछ सप्ताह पीने से पेट का कैंसर ठीक हो जाता है | कैंसर अधिक फैलने नहीं पाता |

loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*