पैरों के रोगों का घरेलू इलाज

Home Remedies For Foot Diseases In Hindi

यहां हम पैरों के रोगों के बारे में बता रहें हैं कि पैरों में कितने प्रकार के रोग हो सकते हैं और इन पर से अगर जरा भी ध्यान हटा दिया जाए यानी इनकी देखभाल न की जाय तो ये रोग चलने फिरने में रुकावट पैदा कर सकते हैं |

एथलीट्स फुट (Athletes Foot)

इस रोग में पांव एक प्रकार की फफूंद (Fungus) के संक्रमण से प्रभावित हो जाते हैं तथा पैरों में दाद तथा छाले आदि हो जाते हैं |

पैरों के रोगों का कारण

यह संक्रमणजन्य रोग है जो एक से दूसरे व्यक्ति को हो सकता है | स्कूल-कॉलेजों के सामूहिक स्नानघरों में नहाने तथा तरणताल आदि में तैरने से यह रोग हो जाता है |

पैरों के रोगों के लक्षण

पांव की उंगलियों के बीच में छाले, जख्म आदि हो जाते हैं | वह स्थान गल सा जाता है और पैरों से दुर्गन्ध आने लगती है |

पैरों के रोगों का उपचार

1. इससे बचने के लिए आवश्यक है कि ऐसे जूते या मोजे न पहने जाएं जिनके पहनने से पसीना आता हो | जूते-मोजे साफ रखने चाहिए | उनमें नमी नहीं होनी चाहिए |

2. पांव और पांव की उंगलियों के बीच के स्थान को अच्छी तरह धो-पोंछकर उन पर औषधियुक्त पाउडर लगाना चाहिए |

3. उंगलियों को अच्छी तरह धो-पोंछकर थोड़ा सा सरसों का तेल लगा कर मेंहदी का पाउडर बुरकना चाहिए | मेंहदी में थोड़ी सी हल्दी मिलाने से और अधिक लाभ होता है | इसे सुविधानुसार प्रातः तथा सायंकाल लगाएं |

पैरों के तलवों में जलन (Burning Feet)

पैरों के तलवों में जलन अनेक कारणों से हो सकती है | इसे अनेक उपायों से दूर किया जा सकता है |

1. घिया का टुकड़ा काटकर तलवों पर मलने से लाभ होता है |

2. पानी से भी जलन दूर होती है | हल्के गरम जल में एक चम्मच सरसों का तेल डालकर पांव उसमें डुबोकर रखें | इसके बाद ठण्डे पानी में एक कपड़ा भिगोकर निचोड़ लें | उससे पांव पोछे, जलन दूर हो जाएगी |

3. प्रातः सोकर उठने के बाद दोनों हाथों से पैरों के तलवों को कुछ देर सहलाने से भी जलन दूर होती है |

4. हमारे देश में पैरों में मेहंदी लगाने की प्रथा आम है | यदि गर्मियों में पैरों में जलन रहती हो तो रात के समय अथवा छुट्टी के दिन किसी भी समय मेहंदी का घोल बनाकर पैरों पर लगाने से लाभ होता है |

5. पैरों पर घी मलने से भी लाभ होता है |

6. आम का बौर पैरों पर मलने से भी तलवों की जलन शांत होती है |

7. धनिए के चूर्ण में समान मात्रा में मिश्री मिलाकर खाने से भी लाभ होता है |

8. मिट्टी का लेप करने और पानी की पट्टी से तलवे सहलाने से जलन मिटती है  |

एड़ियां फटना (Cracks Heels)

एड़ियां फटने से चलने में काफी कठिनाई होती है | प्रायः एड़ियां उन्हीं लोगों की फटती हैं जो पैरों की ओर से लापरवाह रहते हैं | फटी हुई एड़ियों में जलन के साथ तीव्र पीड़ा होती है |

1. फटी एड़ियां ठीक करने तथा दर्द से राहत पाने के लिए पैर गरम पानी में कुछ देर डुबाकर रखें | जब एड़ियों का फटा हुआ स्थान नरम पड़ जाए तो झांवे से उसे धीरे-धीरे रगड़कर मैल उतार दें | इस प्रकार एड़ी का सूखा हुआ भाग कोमल होकर साफ हो जाएगा |

2. गरम पानी में नमक और थोड़ा सरसों का तेल डालकर पैरों को साफ करेंगे तो जल्दी आराम होगा | पैर धोने के बाद सूखे कपड़े से पोंछ दें और थोड़ा तेल या वैसलीन लगाकर कपड़ा लपेटकर सो जाएं | यह प्रयोग सोने से पूर्व करना चाहिए |

3. कहीं बाहर जाते समय अथवा सर्दियों में साफ मोजे पहने, एड़ियां नहीं फटेंगी | स्नान करते समय झांवे से रगड़ कर पैर साफ करते रहें |

4. पैर गरम पानी से धोने के बाद देसी मोम में तिल का तेल मिलाकर मलहम भी बना सकते हैं | पैरों को धो-पोंछकर एड़ियों पर यह घोल लगा लें या बिवाइयों में भर दें | बिवाइयां ठीक हो जाएंगी | इन पर कपड़ा लपेट कर रखें |

loading...

2 Comments

  1. सभी मनीषी को मेरा प्रणाम
    मेरे सीधे पैर कीबड़ी अंगुली मैं झंझनाहटहोती है पांच मिनटखडा रहने पर एक सीधे पैर मैं अधिक एवं
    उलटे पैर मैं कम टखने के नीचे सूजन आ जाती है क्या रोग हो गया हैसाथ हीकमर मैं दर्द भी बहुत तेज होता है तथा कहाँ से इलाज करना ठीक रहेअगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*