रतौंधी के घरेलू नुस्खे Rataundhi Ke Lakshan Aur Karan In Hindi

Home Remedies for night blindness

रतौंधी का कारण व लक्षण Rataundhi Ke Lakshan Aur Karan In Hindi

विटामिन ‘ए’ की कमी से होनेवाला यह आंखों का प्रमुख रोग है। इस रोग से ग्रसित व्यक्ति को रात्रि के समय दिखाई देना बंद हो । जाता है तथा रोगी की आंखों के सम्मुख काले-पीले धब्बे आने लगते हैं। जिससे उसे काफी असुविधा होती है। यह रोग अधिक समय तक धूप में रहने तथा आहार में विटामिन ‘ए’ की कमी से होता है।

रतौंधी का उपचार Rataundhi Ka Upchaar (Ilaj)

1. केलाः केले के पत्तों का रस आंखों पर लगाने से रतौंधी दूर हो जाती है। आमः प्रतिदिन एक आम सुबह-शाम खाएं। इससे शरीर में विटामिन ‘ए’ की कमी पूरी होगी और रतौंधी में भी आराम मिलेगा।

2. आंवलाः रतौंधी होने की स्थिति में प्रतिदिन एक आवले का सेवन करें। गाजरः रतौंधी के रोगियों के लिए गाजर अचूक औषधि है। अत: इसका नियमित सेवन करना चाहिए। यदि संभव हो सके तो सुबह-शाम एक-एक गिलास गाजर का रस जरूर पीएं। इससे रतौंधी में काफी फायदा पहुंचेगा।

3. बेलः बेलपत्र के रस को पीने से तथा बेलपत्र के रस मिश्रित पानी से पुतलियों को धोते रहने से कुछ ही दिनों में चमत्कारी असर होता है। बेल की सात कोंपलें और काली मिर्च के सात दाने पीसकर दो चम्मच पिसी हुई मिश्री में मिलाकर सुबह नाश्ते से पहले चटनी की तरह खाएं। यह प्रयोग सर्दियों के मौसम में करें। जबकि गर्मियों में इस चटनी का शरबत बनाकर पीएं। अगर वायु व कफ की शिकायत हो तो इसमें एक चम्मच शहद भी मिला लें। इस प्रयोग से रतौंधी में काफी लाभ होता है।

4. सेवः प्रात:काल एक सेव नित्य चबा-चबाकर खाने से काफी आराम मिलता है।

loading...

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*