प्लेग का घरेलू उपचार

Home remedies for plague

प्लेग का कारण

प्लेग एक महामारी है जो सामान्यतया चूहों द्वारा फैलती है। यह रोग बड़ी तेज गति से फैलता है। कुछ वर्षों पूर्व सूरत में प्लेग फैला था जिसमें सैकड़ों लोगों की जानें चली गई थीं। इस रोग में रोगी के रक्त में विषाक्त पदार्थ घुल जाते हैं जिससे उसे तेज ज्वर आता है। इसके अलावा सिरदर्द, बदन टूटना, सारे बदन में तेज पीड़ा, बार-बार पेशाब आना इस रोग के प्रमुख लक्षण हैं।

प्लेग का उपचार

इमलीः प्लेग के रोगी को इमली का रस बार-बार पिलाना चाहिए। इससे उसे काफी राहत महसूस होती है।

पपीताः प्लेग का रोग होने पर पपीते के बीज को घिसकर उसमें पानी मिलाकर पिलाने से काफी लाभ होता है।

प्लेग का आक्रमण होते ही यदि आधी-आधी रत्ती की मात्रा में पपीते के बीजों का चूर्ण जल के साथ 2-2 घंटे के अंतराल पर रोगी को दिया जाए तो 24 घंटे में ही प्लेग का ज्वर तथा पीड़ा शांत हो जाती है।

प्लेग फैलने पर जो लोग कमर तथा हाथों पर पपीते के बीजों को बांध लेते हैं उन पर प्लेग का आक्रमण बेअसर रहता है।

 

loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*