सामान्य जानवरों के काटने पर घरेलू उपचार

Home remedy for animal and insects bites

जाने-अनजाने में कोई भी विषदंश का शिकार हो सकता है। सांप, बिच्छू, ततैया तथा अनेक प्रकार के कीटों व जंतुओं के दंश के कारण व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। यहां कुछ सामान्य जानवरों व कीड़ों के काटने पर वांछित उपचार दिया जा रहा है।

उपचार

नीबूः रस में नमक मिलाकर मकड़ी, बर्रे व मधुमक्खी के काटे स्थान पर लगाने से आराम मिलता है। खटमल व पिस्सू के काटने पर भी नीबू ही लगाया जाना चाहिए।

आमः चूहा, बंदर, पागल कुत्ता, मकड़ी, ततैया के काटने पर आम की गुठली को पानी में घिसकर दंशित स्थान पर लगाने से काफी आराम मिलता है |

अनार: बर्रे के काटे स्थान पर अनार के पत्तों को पीसकर लगाने से लाभ होता है |

अखरोटः अखरोट खाने से भिलावे का विष दूर हो जाता है।

बेल: मधुमक्खी,ततैया व मच्छर आदि डंक वाले कीड़े के काटने पर पीड़ा होती है| इसे दूर करने के लिए बेल के पत्तों का रस निकलकर दंश वाले स्थान पर लगायें| जब तक दंश कि चुभन शांत नहीं हो जाती इस रस को लगते रहें| बेल के पत्तों का रस डंक कि पीड़ा दूर करने में बड़ा गुणकारी माना जाता है| इससे जलन व चुभन समाप्त हो जाती है |

अखरोटः अखरोट खाने से भिलावे का विष दूर हो जाता है।

loading...

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*