वीर्य पतला होने का कारण व घरेलू इलाज

आजकल बहुत से ऐसे लोग हैं जिनका वीर्य पतला हो चूका है, पर घबराएं नहीं इसका इलाज घरेलू स्तर पर भी सम्भव है | आइए सबसे पहले ये जानते हैं कि किन कारणों से वीर्य पतला हो जाता है और उनका घरेलू इलाज क्या है…

कारण

गलत संगत में पड़कर वेश्यागमन करने, अत्यधिक सहवास करने, हस्तमैथुन की आदत का शिकार होने के कारण वीर्य में पतलापन आ जाता है। वीर्य का पतलापन वस्तुत: इस बात का प्रतीक है कि व्यक्ति का वीर्य कमजोर तथा निर्बल हो गया है। कामुक विचारों तथा अश्लील साहित्य को पढ़ने से अधिक उत्तेजना के कारण वीर्यपात हो जाता है। यह स्थिति भी यदि लगातार बनी रहे तो वीर्य पतला हो जाता है।

लक्षण

वीर्य का प्रमुख कार्य संतानोत्पत्ति है। यदि वीर्य पतला व कमजोर हो जाता है तो नपुंसकता के लक्षण प्रकट होने लगते हैं तथा संतानोत्पत्ति कर पाने में बाधा आती है।

उपचार

जामुनः जिन व्यक्तियों का वीर्य पतला हो तथा जरा सी उत्तेजना में ही वीर्यपात हो जाता हो उनके लिए जामुन काफी लाभदायक है। वीर्य का पतलापन दूर करने हेतु पांच ग्राम जामुन की गुठली का चूर्ण नित्य शाम को गर्म दूध के साथ लें।

केलाः केला शुक्रवर्धक फल है। इसके नियमित सेवन से वीर्य पुष्ट होता है।

छुहाराः पतली धातु के रोगियों के लिए छुहारा बेहद उपयुक्त है। नित्य तीन-चार छुहारे खाएं|

बेरः बेर के सेवन से वीर्य गाढ़ा होता है।

बेलः बेल का गूदा और बेलपत्र दोनों ही धातु को पुष्ट करते हैं 50 ग्राम बेलपत्र कूट-पीसकर चूर्ण बना लें तीन ग्राम चूर्ण एक चम्मच शहद में मिलाकर सुबह-शाम लें, इससे धातु पुष्ट होगी। इसके अलावा यदि बेल का गूदा निकालकर बीज और छिलका अलग करके उसे मलाई में मिलाकर खाएं तो धातु पुष्ट हो जाएगी।

loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*