कुकर खांसी (Whooping Cough) का घरेलू उपचार

कुकर खांसी वस्तुतः एक संक्रामक रोग है | यह रोग प्रायः बच्चों को अधिक होता है | रोगी बच्चे के संपर्क में आने वाले अन्य बच्चों को भी यह बीमारी हो जाती है | श्वास नली में संक्रमण होने से यह रोग पैदा होता है | खांसी आने के समय बच्चे को काफी कष्ट होता है | अधिक छोटे बच्चों को यह रोग होने पर फेफड़ों में अवरोध से उनकी मृत्यु तक हो सकती है | नाक के द्वारा रोग के कीटाणु श्वास नली तक पहुंचते हुए फेफड़ों को भी प्रभावित कर देते हैं | कुकर खांसी के साथ प्रारंभ में बच्चे को हल्का बुखार भी हो जाता है | धीरे-धीरे खांसी का वेग बढ़ता है, खांसी का एक प्रकार से तांता लग जाता है |

जब खांसी शुरू हो जाती है तो बच्चा काफी देर तक खांसता रहता है | खांसते समय उसका दम घुटने लगता है, आंखें लाल हो जाती हैं | कई बार खांसते-खांसते उलटी भी हो जाती है | खांसते समय रोगी के मुंह से ऐसी आवाज निकलती है, जैसे कुत्ता भूक रहा हो | इसीलिए इसे कुकर खांसी कहा जाता है | बच्चों को इससे काफी कष्ट होता है | प्रायः ऐसा माना जाता है कि यदि इसका ठीक से इलाज किया जाए तो यह रोग चार से छह सप्ताह में ठीक हो सकता है | वरना यह लम्बे समय तक चलने वाला रोग है |

उपचार

1. कुकर खांसी वाले रोगियों को घर पर ही रहना चाहिए |

2. उन्हें अधिक लोगों से मिलना या भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर नहीं जाना चाहिए |

3. खांसी यदि पढ़ने वाले बच्चे को है तो उसे स्कूल से छुट्टी ले लेनी चाहिए क्योंकि यह एक संक्रामक रोग है |

4. कुकर खांसी वाले रोगियों को पानी तथा अन्य तरल पदार्थों को गर्म करके खाना चाहिए | इससे उनके गले को आराम मिलेगा |

6. अदरक के एक चम्मच रस में मेथी का एक कप काढ़ा बनाकर शहद मिलाकर पीने से कुकर खांसी में बलगम आसानी से निकलने लगता है |

loading...

1 Comment

  1. Mera galaa na dukh raha hai aur na hi khansi ya koi aur problem hai.bas galaa baitha hua hai meri awaz bhi thik se nhi nikal rahi.do mahine se aisa hi hai boht medicine khayi par koi fayda nhi hua.pls aap mujhe iska koi ilaj batayen.

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*