जाने प्राकृतिक तरीके कि हम स्वस्थ कैसे रहें

स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का वास होता है और स्वस्थ शरीर के लिए पौष्टिक एवं संतुलित आहार का नियमित सेवन आवश्यक है। हालांकि गरीबी पौष्टिकता का सबसे बड़ा दुश्मन है, लेकिन इसका यह अर्थ नहीं कि अमीर लोग संतुलित व पौष्टिक आहार ग्रहण करते हैं। आहार के बारे में अज्ञानता व जागरूकता के अभाव के कारण हमारे देश में अमीरों के बीच भी असंतुलित पौष्टिकता व्याप्त है, जिसके कारण वे भी आहार संबंधी बीमारियों से ग्रस्त हैं।

यह वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित हो चुका है कि हमारे आहार का रोग से सीधा संबंध है। मानव शरीर सबसे सुंदर व जटिल मशीन की भांति है। इस मशीन को लगातार कार्य करने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है जो कि आहार द्वारा प्राप्त होती है। जिस प्रकार इंजन को सुचारु रूप से चलाने के लिए ऊर्जा व तेल की आवश्यकता होती है उसी प्रकार शरीर को सक्रिय रखने के लिए वसा, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, चबी, रेशे, विटामिन तथा खनिज व सूक्ष्म तत्त्वों की आवश्यकता होती है।

सरल है स्वस्थ रहना

स्वस्थ रहना आसान है परंतु इसके लिए स्वास्थ्य के नियमों का ज्ञान होना आवश्यक है। कुछ छोटे-छोटे नियमों को अपनाकर आप हमेशा स्वस्थ रह सकते हैं। क्या कभी आपने सोचा है कि रोगी होने की अपेक्षा स्वस्थ रहना कितना सस्ता है। इस बात का ज्ञान न होने से हम स्वस्थ जीवन के लिए थोड़ा सा खर्च करने में भी हिचकिचाते हैं जबकि रोगी होने पर धन पानी की तरह बहा देते हैं। स्वस्थ जीवन के लिए कुछ ज्यादा खर्च नहीं करना पड़ता। साधारणतया हमारे दैनिक खचों में उचित सामंजस्य स्थापित करके ही स्वस्थ जीवन जिया जा सकता है।

स्वास्थ्य की कसौटी

सबसे पहले यह जानिए कि आप स्वस्थ हैं या नहीं। स्वास्थ्य को परखने के लिए यहां कुछ बिंदु दिए जा रहे हैं। यदि आपका शरीर इन बिंदुओं पर खरा उतरता है तो आप स्वस्थ हैं अन्यथा रोगग्रस्त।

1. क्या आपको भूख अच्छी व समय पर लगती है?

2. क्या आप जितना खाते हैं उतना पच जाता है?

3. क्या आपको अच्छी नींद आती है?

4. क्या आपको शरीर के किसी भाग में पीड़ा का अनुभव नहीं होता?

5. क्या आपका शरीर हल्का व स्फूर्तिदायक रहता है?

6. क्या कम-से-कम आठ घंटा शारीरिक या मानसिक कार्य करने से थकान नहीं आती?

7. क्या आपको कब्ज नहीं रहती?

यदि इन सभी सवालों का जवाब आप ‘हां’ में देते हैं तो समझिए कि आप निरोगी हैं कितु यदि एक भी सवाल का जवाब ‘नहीं’ में है तो निश्चित रूप से आप रोगग्रस्त हैं।

अस्वस्थता के कारण

1. आवश्यकता से अधिक भोजन

2. भूख न लगने पर भी खाना

3. शरीर को आवश्यक विश्राम न देना

4. किसी भी प्रकार का नशा करना

5. जला-तला व जीवन तत्त्व रहित भोजन का सेवन

6. बासी भोजन का सेवन

7. अत्यधिक तनाव होना

8. व्यायाम नहीं करना

loading...

1 Comment

  1. मुझे भूंक नही लगती हैँ और मुझे नींद बहुत आती है । मैँ बहुत पातला हो गया हूँ इसका कोई इलाज हैँ

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*