अग्निदाह से उत्पन्न दर्द का घरेलु उपचार Pain Relieve After Skin Burn In Hindi

fire burn pain treatment in hindi

अग्निदाह से उत्पन्न दर्द का घरेलु उपचार Pain Relieve After Skin Burn In Hindi – कई बार हम आग से जल जाते है और फफोले भी पड़ जाते हैं | जल जाने के बाद काफी जलन होती है और वह बहुत पीड़ादायक होती है | इस प्रकार की जलन का घरेलु आयुर्वेदिक इलाज उपलब्ध है जिसके बारे में हम आपको यहाँ बताएँगे |

कारण और लक्षण

आग से जलने पर त्वचा में दाह उत्पन्न हो जाता है। यदि त्वचा ज्यादा न जली हो तो फफोले हो जाते हैं जबकि ज्यादा जलने पर घाव हो जाता है, जिसमें तीव्र जलन होती है। त्वचा में फफोले हो जाने पर उनमें मवाद पड़ जाता है और बदबूदार स्राव होने लगता है।

घरेलु कारगर उपचार

अग्निदाह से उत्पन्न दर्द कई घरेलु उपचार है और रोगी को ज्यादा तकलीफ भी नहीं होती है | लेकिन यदि स्थिति गंभीर हो तो ऐसी दशा में घरेलु उपचार करने की बजाय हॉस्पिटल में जाना ज्यादा अच्छा होगा |

1. आम के पत्ते – आग से शरीर का कोई अंग जल जाए तो आम के पत्तों को जलाकर इनकी भस्म को जले हुए पर बुरकिए (छिडकें)। जला हुआ अंग और उसका दर्द जल्दी ही ठीक हो जाएगा।

2. गाजर का इस्तेमाल – कच्ची गाजर को पीसकर आग से जले हुए अंग या स्थान पर मरहम की तरह लेप करने से दाह ख़त्म हो जाता है। साथ ही दाह के परिणामस्वरूप त्वचा में बनने वाला पीप (liquid) बनना भी बंद हो जाता है।

3. केले का गूदा – आग से जल जाने पर जले हुए स्थान पर खूब पके केले के गूदे को फेंट कर मरहम की तरह लगा दें। इससे तुरंत ठंडक मिलती है व दाह शांत हो जाता है।

4. नारियल का तेल – आग से जले हुए स्थान पर तुरंत ही चूने का निथरा हुआ पानी और नारियल का तेल बराबर मात्रा में मिलाकर लगाने से जलन तत्काल शांत हो जाती है तथा फफोले इत्यादि भी नहीं पड़ते। इस उपचार को दिन में दो बार अवश्य करें।

5. बेल का चूर्ण – आग से जलने पर बेल की कचरियों का चूर्ण बनाकर उसे गर्म तेल में मिलाकर ठंडा होने पर घाव पर लगाने से तुरंत आराम मिलता है। यह बहुत कारगर नुस्खा है। एक बार के प्रयोग से ही आप इसका लोहा मान जाएंगे।

loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*