तनाव सिरदर्द का ईलाज और बचाव कैसे करें Tension Headache Causes Relief And Treatment

headache and gharelu nuskhe for relief

तनाव सिरदर्द का ईलाज और बचाव कैसे करें Tension Headache Causes Relief And Treatment – Home Remedies In Hindi – इस प्रकार के सिर दर्द को तनाव सिरदर्द (Tension Headache) या दबाव सिरदर्द (Pressure Headache) के नाम से भी जानते हैं | आजकल यह एक आम बात है, जिसे अनगिनत लोग अनुभव करते हैं.

हालाँकि इसके एक निश्चित कारण की जानकारी नहीं है, कुछ जानकार लोग इसका कारण सिर और गर्दन एरिया में मांसपेशियों का खिचाव मानते हैं.

इस प्रकार सिरदर्द के कुछ प्रमुख फैक्टर हैं. जिनमें मुख्यतः इसे बढ़ाने का काम तनाव, नींद पूरी न होना, भोजन का समय पर न लेना, देखने में समस्या, आँखों पर खिचाव, बहुत थक जाना और मांसपेशियों में खिचाव आदि हैं. पुरुषों की अपेक्छा महिलाओ को सिरदर्द का अनुभव अधिक होता है.

तनाव सिरदर्द दो प्रकार के होतें हैं- Episodic और Chronic. Episodic तनाव आधे घंटे से लेकर एक सप्ताह में ख़त्म हो सकता है, जबकि Chronic सिरदर्द घंटो या लगातार भी जारी रहता है.

तनाव सिरदर्द हल्के से शुरू होकर धीरे-धीरे बढ़ता है और इसमें सिर के चारो तरफ एक कसे हुए बंधन जैसा महसूस होता है. दर्द सिर के पिछले भाग या भौंहों के ऊपर से शुरू होकर पूरे सिर में फैल जाता है.

कुछ अलग लक्षणों में माथे या सिर के अगल-बगल और पीछे दबाव, या गर्दन और कंधे में सूजन, जैसा मेहसूस होता है.

सिरदर्द, परेशानी के अलावा चिंता या बेचैनी को बढ़ावा देता है, जो हमारे सम्बन्धो, कार्यछ्मता और दिनचर्या पर प्रभाव डालता है.

तनाव सिरदर्द से बचने के लिए यह जरुरी है कि इसको बढ़ाने वाले फैक्टर्स को पहचान कर, इससे बचाव किया जाये.

तनाव सिरदर्द को रोकने के मुख्य 10 तरीके Tanav Sirdard Se Mukti Ke 10 Upaya

1. तनाव प्रबंधन Tension Management Se Headache Se Mukti

अपने तनाव को नियंत्रण में रखना ही सिरदर्द से बचाव या ईलाज का पहला महत्वपूर्ण कदम है. अधिक तनाव सिरदर्द की शुरुआत ही नहीं करता बल्कि दर्द को और भी बढ़ा देता है.

तनाव को नियंत्रित करने के कई तरीके हैं:

  • स्नान करने से तनावपूर्ण मांसपेशियों को आराम मिलता है.
  • शांत कमरे में हल्का और शुकूनपूर्ण संगीत सुनना चाहिए.
  • अपने पसंदीदा काम में समय व्यतीत करें जैसे painting या gardening आदि.
  • कुछ प्रेरणादायक पुस्तकें पढ़ें.
  • घर से बाहर टहलें और खुले वातावरण का आनंद लें.
  • तनाव को कम करने वाली तकनीकी का अभ्यास करें, जैसे- गहरी सांसे लेना, योग, ध्यान, visualization and guided imagery, तनावपूर्ण मांसपेशियों को आराम देता है.
  • तनाव कम करने के लिए नियमित व्यायाम करनें से blood pressure पर सकरात्मक प्रभाव पड़ता है.

2. Massage या सिर की मालिस

कुछ समय तक सिर की अच्छी तरह से Massage करने से तनाव सिरदर्द में काफी आराम मिलता है. यह तनाव मांसपेशियों की सूजन को कम करके blood circulation को बढाने में सहायक है.

Massage के अच्छे परिणाम के लिए इसे temporal / occipital area या सिर के पीछे के भाग पर ज्यादा करना चाहिए:

  • एक या दो बूंद अजवायन या मेंहंदी के तेल को दो चम्मच हल्के गर्म जैतून या नारियल के तेल में मिला ले.
  • इस तेल को अपने माथे और कनपटी पर लगायें.
  • हल्के हांथों से massage करें.
  • massage के बाद कुछ देर रूककर इसका असर देखें.

और अधिक आराम के लिए पूरे शरीर का massage कर सकते हैं.

3. Ice Pack या बर्फ़ का प्रयोग

Ice pack को सिर पर लगाने से दर्द भरी मांसपेशियों को आराम मिलता है, जिससे तनाव सिरदर्द में आराम मिलता है.

सिरदर्द का कारण, नसों पर blood vessels का दबाव होता है. ऐसी परिस्थिति में बर्फ़ का प्रयोग vessels को दबाव बनाने से रोकता है जिससे सिरदर्द या Throbbing Headache में आराम मिलता है | Ice Pack का इस्तेमाल कैसे किया जाय –

  • कुछ ice cubes को प्लास्टिक बैग में लेकर एक पतले तौलिये में लपेट लें.
  • किसी शांत जगह पर लेटकर माथे पर इसे रखकर हल्के से दबाएँ.
  • 2 मिनट के बाद, कुछ समय का break लें.
  • इस प्रक्रिया को 4 से 5 बार दोहराए.
  • आराम करने से दर्द जल्दी समाप्त हो जाता है.

नोट: बर्फ़ को direct त्वचा पर न रखें. इससे वहां कि त्वचा सुन्न या senseless हो सकती है.

4. सेब के सिरके का प्रयोग करें

सेब का सिरका विशेषतया माइग्रेन के लिए अच्छा माना जाता है. लेकिन यह तनाव सिरदर्द में भी काफी असरदार है. यह शरीर के PH स्तर का संतुलन करने में सहायक है और detoxification में भी सहायता प्रदान करता है.

अपने Anti-inflammatory गुण के कारण इससे throbbing headache में सहायता मिलती है. यह तनाव को कम करने में भी सहायक है:

  • 1 चम्मच कच्चे सेब के सिरके को एक गिलास पानी में मिला लें.
  • इसमें कुछ शहद मिला ले.
  • इसको दिन में एक या दो बार लें.

सिरदर्द में आराम के लिए Chamomile Tea या Green Tea का प्रयोग भी कर सकते है.

5. मेहँदी के तेल से पैरों को धोना

जड़ीबूटी के विशेषज्ञों के अनुसार, मेहँदी का तेल, सिरदर्द का एक महत्वपूर्ण घरेलू ईलाज है. हल्का गर्म पानी (मेहँदी कि कुछ बूंदें डालकर) रक्त को पैरों की तरफ संचारित करता है | इससे सिर के Blood Vessels पर Blood का दबाव कम होता है और सिर के throbbing pain को आराम मिलता है.

मेहँदी का तेल अपने anti-inflammatory गुण के कारण भी दर्द को कम करने में सहयोग करता है. एक अध्ययन के अनुसार मेंहंदी के anti-inflammatory और दर्दनाशक गुण के बारे में प्रकाश डाला गया है.

  • एक Tub में हल्का गर्म पानी लेकर इसमें 7-8 बूँदें मेहँदी के तेल की मिलायें.
  • अपने पैरों को इस पानी में करीब 20-30 मिनट रखे.
  • इसके बाद अपने पैरों को तौलिये से सुखा लें.

6. पुदीने का तेल

पुदीने के तेल का उपयोग तनाव सिरदर्द के सबसे अच्छे इलाजों में से एक है, जो नसों को शांत करके तनाव का स्तर को कम करता है. लगातार इसका उपयोग मांसपेशियों को आराम के साथ-साथ नसों में रक्त प्रवाह को बढ़ाता है.

American Family Physician के 2007 में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया है, कि पुदीने के तेल का लगातार इस्तेमाल तनाव सिरदर्द के इलाज में कारगर है:

  • किसी शांत जगह पर बैठकर कुछ बूंदे पुदीने के तेल की अपने कनपटी, माथे और गर्दन के पीछे के भाग में लगायें एवं गहरी साँस लेते हुए आराम करें.
  • पुदीने के तेल की जगह आप 2 भीगे हुए पुदीने के tea bags अपनी पलकों और माथे पर 5-10 मिनट के लिए रख सकते हैं.

7. Cognitive Behavioral Therapy (CBT)

Cognitive Behavioral Therapy चिकित्सक द्वारा मरीज से बात करके चिकित्सा करने की प्रक्रिया है, जो तनाव और चिंता की परिस्थिति और कारण को समझने में सहायता प्रदान करता है. इस चिकित्सा से तनाव प्रबंधन में भी सहायता मिलती है. तनाव के नियंत्रण के पश्चात, तनाव की आवृत्ति और उसकी तीव्रता अपने आप कम हो जाती है.

Congnitive Behavioral Therapy में एक मानसिक चिकित्सक मरीज से अकेले में बात करते हैं. इसके लिए 2-3 घंटे के कई sessions की जरूरत होती हैं.

2014 में प्रकाशित BMC न्यूरोलॉजी के एक अध्ययन में यह पाया गया कि Cognitive Behavioral Therapy, माइग्रेन और तनाव सिरदर्द दोनों के लिए एक प्रभावी ईलाज है. अध्ययन में behavioral approaches कि प्रभाविकता और उसके सकारात्मक तत्वों पर प्रकाश डाला गया.

8. बैठने या खड़े होने के आसन या Posture में सुधार

मांसपेशियों में खिचाव या कड़ापन तनाव सिरदर्द का एक प्रमुख कारण है. यह कड़ापन पूरे गर्दन और सिर में हो सकता है. जिसके पीछे एक प्रमुख कारण बैठने या खड़े होने का गलत आसन या poor posture है.

आसन या posture में सुधार से तनाव सिरदर्द में काफी सुधार हो सकता है. अच्छा posture मांसपेशियों के तनाव को कम करने में सहायक है.

अत: बैठने और खड़े होने के posture में सुधार करने का निरंतर प्रयास करें:

  • खड़े होते समय अपने पेट और Buttocks को अन्दर रखकर, कंधे और सिर को एक level में रखें.
  • बैठते समय अपनी जांघो को जमीन के समानांतर और अपने सिर को सामने की तरफ रखें.

चलते और झुकते समय भी अपने posture को सही रखने के प्रति सचेत रहें.

9. आँखों पर तनाव से बचें

आँखों पर तनाव, सिरदर्द के साथ-साथ गर्दन, कंधे और पीठ में दर्द का एक दूसरा प्रमुख कारण है. जो मेज पर बैठकर कंप्यूटर पर घंटो काम करते हैं उन्हें आँखों पर तनाव और सिरदर्द होने कि अधिक सम्भावना रहती है.

आँखों पर तनाव को रोकने के लिए –

  • अपनी eyelids को रोज करीब 1 मिनट तक दिन में कई बार मालिस करें. इससे आँखों के चारो तरफ मांसपेशियों को आराम मिलेगा.
  • हर 15-20 मिनट काम करने के बाद करीब 5 मिनट का break लें. आँखों की मांसपेशियों को आराम देने के लिए खड़े होकर थोड़ा टहल लें.
  • अपने आँखों को घड़ी की सुई कि दिशा और उसके विपरीत दिशा में गोल-गोल कुछ सेकंड तक घुमाये. यह क्रिया 4-5 बार दोहराये. कुछ घंटो बाद इसे पुनः दोहराए.

10. एक्यूप्रेशर से तनाव सिर दर्द का इलाज Acupressure Se Tanav Headache Ka Upchar

सिरदर्द के ईलाज में Acupressure भी काफी कारगर है. Acupressure, Acupuncture की तरह ही होता है, पर इसमें सुई का इस्तेमाल नहीं होता है. कुछ निश्चित जगहों पर दबाव डालकर इन्हें सक्रिय करके सिरदर्द को कम किया जाता है.

Drilling bamboo point, सिरदर्द को कम करने के लिए Acupressure का एक point है.

Drilling bamboo point को पहचानने के अपनी eyebrows के नीचे, नाक के bridge और आँखों के मिलने की जगह पर गौर करें.

Drilling bamboo point को सक्रिय करने के लिए अपनी index fingers की छोर का सहारा लेकर दोनों points पर एक साथ दबाव डालें. यह दबाव करीब एक मिनट तक डालें.

कुछ महत्वपूर्ण टिप्स-

  • सिरदर्द को बढ़ाने वाले फैक्टर्स जैसे- चॉकलेट, preservatives, पुराने चीज, Nitrates आदि को पहचानकर अपने आहार को व्यवस्थित करें.
  • भोजन करने का एक निश्चित समय और pattern विकसित करें.
  • सोने की सही आदत विकसित करें, लेकिन अधिक न सोयें.
  • Smoke न करें, और alcohol, caffeine और sugar अधिक मात्रा में लेने से बचें.
  • शरीर में पानी की कमी न हो इसके लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पियें.
loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*