एलोवेरा के औषधीय गुण और फायदे Alovera Ke Aushadhi Gun Aur Fayde

एलोविरा देखने में यह अवश्य अजीब सा पौधा है लेकिन इसके गुणों का कहीं कोई अंत नहीं है। यह जहां बवासीर, डायबिटीज, गर्भाशय के रोग, पेट की खराबी, जोड़ों का दर्द, त्वचा की खराबी, मुंहासे, रूखी त्वचा, धूप से झुलसी त्वचा, झुर्रियों, चेहरे के दाग-धब्बों, आंखों के काले घेरों, फटी एड़‍ियों के लिए यह लाभप्रद है वहीं दूसरी तरफ यह खून की कमी को दूर करता है तथा शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है(Alovera Ke Manav Upyog).

एलोवेरा जिसे ग्वारपाठा के नाम से भी जाना जाता है, एक औषधीय पौधे के रूप में मशहूर है। इसके अर्क या जेल का प्रयोग बड़े स्तर पर सौंदर्य प्रसाधन और वैकल्पिक औषधि के रूप में किया जाता है। उदाहरण के लिए त्वचा को युवा रखने वाली क्रीम, दवाइयाँ बना कर भी प्रयोग में लिया जाता है। जलने और घाव पर लगाने के अलावा इसके सेवन से मधुमेह रोगियों की रक्त शर्करा के स्तर में सुधार आता है साथ ही यह उच्च लिपिडेमिक रोगियों के रक्त में लिपिड का स्तर भी घटाने में सहायक होती है(Alovera Se Sugar Ka Ramban Ilaj).

एलोवेरा के पौधे की बाहर की एक पत्ती काटें क्योंकि बाहर की पत्तियाँ ज्यादा पकी होती हैं और उनमें बहुत सारा ताज़ा जेल होता है। पौधे के बाहर ज़मीन के पास उगने वाली पत्तियों को देखें फिर उनमें से एक को, एक तेज़ चाकू की मदद से पौधे के निचले हिस्से से सावधानी से काटें। ऐलोवेरा जेल ज्यादा दिन नहीं चलता है इसलिए इसे ज्यादा मात्रा में नहीं बनायें, एक या दो बड़ी पत्तियों को काटकर करीब आधा से एक प्याला जेल प्राप्त किया जा सकता है।

एलोवेरा  क्या हैं ? Alovera Kya Hai

एलोवेरा, को वॉन्डर प्लान्ट के नाम से भी जाना जाता है, जो एक छोटे- स्टेम झाड़ी जैसा पौधा होता है। एलो एक जीन है जिसमें 500 से ज्यादा प्रजातियाँ/स्पीसीज होती हैं। एलोवेरा लिलियासी फैमिली का एक कैक्टस रुपी पौधा है। यद्यपि आजकल एलोवेरा के पौधे घर-घर में उगाए जाते हैं और दुनिया भर में उपयोग किए जाते हैं, पर पहले ये पौधे केवल उष्णकटिबंधीय/ट्रॉपिकल और दक्षिणी अफ्रीका, हिंद महासागर के द्वीपों में पाए जाते थे। एलोवेरा का पौधा एक रसीला पौधा होता है, जिसका मतलब है कि यह बिना पानी के भी गर्मियों के गर्म मौसम में बढ़ने के लिए अनुकूलित होता है क्योंकि इसकी पत्तियां इतनी ज्यादा स्टोर कर सकती हैं की बिना पानी के भी यह काफी समय तक रह सकता है। एलोवेरा इतना गुणकारी होता है की आपकी स्किन के जल जाने पर अगर आप एलोवेरा जूस लगाते हैं तो यह सिल्वर सल्फाडियाज़िन के मुकाबले 3 दिन पहले जली हुई स्किन का इलाज कर सकता है। एलोवेरा जैल में 12 ऐसे प्राकृतिक पदार्थ होते हैं जो बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के किसी भी प्रकार की जलन को कम कर सकते हैं(Alovera Manav Ke Liye sanjivani Hai).

एलोवेरा के औषधीय फायदे Alovera Ke Aushadhi Fayde

इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाये Immune System Ko Banaye Majboot खासकर ठंडे दिनों में आपको अपने इम्यून सिस्टम का विशेष ध्यान रखना चाहिए। एलोवेरा के पोलिसकराइड्स में और ट्यूमर-को रोकने के गुण होते हैं। दूसरे शब्दों में कहे तो , एलोवेरा जैल इम्यून सिस्टम को ट्रैक पर वापस लाने में मदद करता है, और एक साथ कैंसर-ट्यूमर को नष्ट कर सकता है। एलोवेरा न केवल इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है, बल्कि यह तंत्रिकाओं को भी मजबूत करता है, ताकि तनाव से बेहतर ढंग से मुकाबला किया जा सके(Aloe Vera juice ke fayde).

पाचन को ठीक करे Pachan Ko Thik Kare जब हम बहुत अधिक भोजन खा लेते हैं तो कई बार हमे असुबिधा का सामना करना पड जाता है ऐसे में एलोवेरा बहुत मदद करता है के नियमित उपयोग से शरीर के पाचन तंत्र को साफ करने में मदद मिलती है। साफ और शुद्ध एलोवेरा जैल और जूस पीने से आँतो में सुधार आता है। एलोवेरा के जूस में प्राकृतिक और डिटॉक्सीफाइंग क्षमता होती है, इसलिए इसके नियमित सेवन से आपकी आंतों में सुधार आता है। एक रिपोर्ट के अनुसार एलोवेरा क्यूरेटिव सिंड्रोम, गैस्ट्रिक अल्सर, क्रॉन रोग और अन्य पाचन विकारों से मुक्ति में मदद करता है। यह यह आपके ब्लड को भी साफ करता है।

स्किन रोगो में लाभकारी Skin Rog Me Hai Labhkari एलोवेरा त्वचा रोगों से लड़ने में आपकी मदद करता है। फिर चाहे वह मुँहासे, एक्जिमा, डार्माटाइटिस या सोरायसिस हो: एलोवेरा त्वचा को ठीक करता है। एलोवेरा का जूस ठंडा होता है, जो हमारी स्किन को मॉइस्चराइज करता है और त्वचा को जलन और बीमारियों से छुटकारा दिलाता है। स्किन रोगों के लिए डॉक्टर्स एलोवेरा जूस पीने की सलाह देते है और साथ ही साथ इन्फेक्टेड जगह पर इसे लगाने की सलाह भी दी जाती है

घाव भरने में सहायक Ghav Bharne me Sahayak एलोवेरा जैल में 12 प्राकृतिक पदार्थ होते हैं जो बिना किसी साइड इफेक्ट्स के हमारे घाव भरने के काम आते है। इसके लिए जरूरी है कि आप अपने घर में एलोवेरा को पौधा या एलोवेरा का जूस हर समय रखें क्योंकि चोट कभी भी लग सकती है। चोट पर एलोवेरा लगाएं, जब एलोवेरा सूखता है, तो यह ऊतक को एक साथ खींचता है, और इस तरह से घाव बंद कर देता है और इसे बैक्टीरिया से मुक्त रखता है। वैसे,एलोवेरा मुंह और मसूड़ों के लिए भी बहुत अच्छा होता है।

जोड़ों के दर्द से लाभ Jodo Me dard Se Labh अगर आपके जोड़ों में परेशानी है तो यह काफी गंभीर समस्या हो सकती है और यह आपके चलने फिरने में बाधा डाल सकती है, एलोवेरा जैल जोड़ों के दर्द को कम करता है और मांसपेशी गतिशीलता को बढ़ाता है।

दिल के दौरे को रोकने में सहायक Heart Stroke ko Rokne Me Sahayak Rheumatism और Arteriosclerosis दोनों ही बीमारियाँ दिल के दौरे या स्ट्रोक का कारण बन सकती हैं। एलोवेरा रक्त में अधिक ऑक्सीजन परिवहन करने में सक्षम बनाता है और स्ट्रोक को कम करता है। यह हाई ब्लड प्रेशर को भी कम करता है। यदि आप नियमित रूप से एलोवेरा का रस पीते हैं, तो आप बीमारी को समय से रोक या कम कर सकते हैं।

झुर्रियों को खत्म करे Jhuriyon ko khatam एलोवेरा आजकल हाई क्वॉलिटी प्रोडक्ट्स में इश्तेमाल किया जाता है क्यूंकि यह त्वचा के लिए एक अद्भुत दवा है। एलोवेरा आपकी रूखी स्किन को मॉइस्चराइज करता है, पोषण देता है और नई त्वचा सेल्स के पुनर्जन्म को तेज करता है। आज हर कोई जवान दिखना चाहता है, एलोवेरा आपकी स्किन को फ्रेश और जवान रखने में भी बहुत मदद करता है।

दांत और मसूड़ों को मजबूत करे Dant Aur Masudo Ko Majboot Kare एलोवेरा जैल में दांतों के रोगाणुों से लड़ने की ताकत होती है। एलो लेटेक्स में एंथ्राक्विनोन, यौगिक होते हैं प्राकृतिक रूप से दांतों की परेशानियों को कम करते है और दूर करते हैं।

कब्ज को दूर करे Kabj Ko Door kare कब्ज के इलाज के लिए एलोवेरा का इस्तेमाल किया जाता है। एलो लेटेक्स के 50-200 मिलीग्राम के खुराक आम तौर पर 10 दिनों तक एक बार तरल या कैप्सूल रूप में लिया जाये तो कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है।

कील-मुंहासों को दूर करे Keel Muhase Ko Door Kare एलोवेरा में एंटी-माइक्रोबियल गुण पाया जाता है. इसकी ये खूबी कील-मंहासों से राहत दिलाने में बहुत कारगर होती है. जब बैक्टीरिया और फंगल इंफेक्शन होगा नहीं तो कील-मुंहासों की समस्या भी नियंत्रण में रहेगी.

त्वचा में नमी Skin Me Nami एलोवेरा त्वचा को पोषण देने का काम करता है. ये एक बहुत अच्छा मॉइश्चराइजर है. किसी भी स्क‍िन टाइप के लोग इसका इस्तेमाल कर सकते हैं, बशर्ते आपको इससे एलर्जी न हो.

दाग-धब्बों को दूर करे Daag Ddhabbo Ko Door Kare अगर आपके चेहरे पर दाग हैं तो एलोवेरो का नियमित इस्तेमाल आपके लिए फायदेमंद रहेगा. इससे रेग्युलर इस्तेमाल से त्वचा के अनचाहे दाग-धब्बे दूर हो जाते हैं.

एलोवेरा एक नेचुरल इंग्रीडिएंट है जो अपने साथ बहुत से लाभों का एक खजाना लाता है। इसका आनंद लेने का सबसे अच्छा तरीका, इसे अपने रसोईघर, बगीचे या बालकनी में उगायें। एलोवेरा के पौधे की देखभाल करने में बहुत कम समय लगता है, लेकिन उसके बदले में आपको बहुत से लाभ मिलते हैं। तो आगे बढ़ें, और आज ही अपनी हेल्थ को सुधारिये।

एलोवेरा के नुकशान Alovera ke Nukshan

स्किन एलर्जी का खतरा Skin Allergy Se Khatra स्लोवेरा जेल के ज़्यादा इस्तेमाल से स्किन पर रैशेज, खुजली और रेडनेस हो सकती है. 

डिहाइड्रेशन की समस्या Dihydration ki Samsya कई लोग सुबह-सुबह कुछ घूंट एलोवेरा जेल पीते हैं, ये सोचकर कि इससे उनका वजन कम होगा और शरीर स्वस्थ्य बनेगा. बाजारों में भी तमाम तरह के एलोवेरा जूस मौजूद हैं. आपको बता दें इस जूस से आपको डिहाइड्रेशन की परेशानी भी हो सकती है. 

कमजोरी Kamjori इस जूस का लगातार सेवन शरीर में पोटेशयम कि मात्रा कर कर सकता है, जिस वजह से अनियमित दिल की धड़कन और कमजोरी आ सकती है. जिन लोगों को पहले से दिल संबंधी कोई शिकायत हो वो इस जूस को अवॉइड ही करें. 

आई बी स का इलाज IBS ka Ilaj अगर आपको अनियमित मलत्याग की दिक्कत या पाचन को लेकर कोई शिकायत हो तो एलोवेरा जूस को अवॉइड करें. क्योंकि इस जूस में मौजूद लैक्सेटिव आपकी IBS कि शिकायत को और बढ़ा सकता है. इसके अलावा यह पेट दर्द, डायरिया और लूज मोशन की परेशानी भी बढ़ा सकता है. आपको बता दें इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम का मतलब है अनियमित मलत्याग. यह एक बीमारी नहीं बल्कि एक साथ होने वाले कई लक्षणों का समूह है. 

ब्लड शुगर बढ़ा सकता है Blood Sugar Ko Bda Sakta Hai एलोवेरा का लगातार सेवन ब्लड प्रेशर को लो कर सकता है. ये बेशक हाई बीपी से परेशान लोगों के लिए अच्छा हो, लेकिन लो ब्लड प्रेशर के परेशान लोगों के लिए यह परेशानी की वजह बन सकता है. 

मसल्स को करे कमजोर Mussels Ko Kare Majboot इस जूस में मौजूद लैटेक्स मांस-पेशियों को कमजोर कर सकता है. इसीलिए डॉक्टर कि सलाह से ही इसका सेवन करें. 

प्रेग्नेंट महिलाओं को नुकशान Pregnant Women Ko Nukshan एलोवेरा में मौजूद लैक्टेटिंग प्रोपर्टी गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक हो सकती हैं. इसके सेवन से उनका गर्भाशय संकुचित हो सकता है, जिसका नतीजा होता बच्चे के जन्म में दिक्कत या फिर गर्भपात. 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*