अमर बेल के फायदे Amarbel Plant Ke Fayde

Benefits of Amarbel Fayde In Hindi

अमर बेल के फायदे Amarbel Plant Ke Fayde – About Amarbel Plant in Hindi

अमर बेल (Amarbel) एक पराश्रयी लता है, जो प्रकृति का चमत्कार ही कहा जा सकता है। बिना जड़ की यह बेल जिस वृक्ष पर फैलती है, अपना आहार उसी से रस चूसने वाले सूत्र (Suckers) के माध्यम से प्राप्त कर लेती है। इस बेल का रंग पीला और पत्ते बहुत ही बारीक, नहीं के बराबर होते हैं। बेल पर शरद् ऋतु में कर्णफूल की तरह गुच्छों में सफेद फूल लगते हैं। बीज राई के समान हलके पीले रंग के होते हैं। यह बेल वसन्त और ग्रीष्म ऋतु में बहुत बढ़ती है और शीतकाल में सूख जाती है। जिस पेड़ का यह सहारा लेती है, उसे सुखाने में कोई कसर बाकी नहीं रखती।

अमर बेल के विभिन्न भाषाओं में नाम

  1. संस्कृत – आकाशवल्ली
  2. हिंदी – अमर बेल, आकाश बेल
  3. मराठी और गुजराती – अमरबेल
  4. बंगाली – आलोक लता
  5. अंग्रेजी-  डोडर (Dodder)
  6. लैटिन – कस्कुटा (Cuscuta Reflexa)

अमर बेल के औषधीय गुण

आयुर्वेद मतानुसार अमर बेल कड़वी, ग्राही, कसेली, रेशेदार, भारी, वात, पित्त – कफ नाशक, अग्निकारक, शीतल प्रकृति वाली, हृदय के लिए हितकारी, रक्तशोधक, यकृत और तिल्ली के दोषों से उत्पन्न रोगों को दूर करने वाली, शोथ, बालों के रोग, पेट के कृमि, चर्म रोग दूर करती है।

विभिन्न रोगों में प्रयोग Amarbel Plant Uses – Amarbel Plant Ke Fayde

1. खुजली शान्त करने में अमरबेल का प्रयोग

अमर बेल को पीसकर बनाए गए लेप को शरीर के खुजली वाले अंगों पर लगाने से आराम मिलता है।

2. पेट के कीड़े

अमर बेल और मुनक्कों को समान मात्रा में लेकर पानी में उबालें। काढ़ा तैयार होने पर छानकर 3 चम्मच रोजाना सोते समय दें।

3. गंजापन दूर करने में Amar Bel For Hair Growth

बालों के झड़ने से उत्पन्न गंजापन दूर करने के लिए गंजा हुए स्थान पर अमर बेल का पानी में घिसकर तैयार किया लेप धैर्य के साथ नियमित रूप से दिन में 2 बार 4-5 हफ्ते लगाएं, इससे अवश्य फायदा होगा।

4. नाटे बच्चों की वृद्धि हेतु

जो बच्चे नाटे कद के रह गए हों, उन्हें आम के वृक्ष पर चिपकी हुई अमर बेल निकाल कर सुखाएं और उसका चूर्ण बनाकर एक-एक चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम पानी के साथ कुछ माह तक नियमित खिलाएं।

5. पेट के रोग

अमर बेल के बीजों को पानी में पीसकर बनाए गए लेप को पेट पर लगाकर कपड़े से बांधने से गैस की तकलीफ, डकारें आना, आपान वायु न निकलना, पेट दर्द एवं मरोड़ जैसे कष्ट दूर हो जाते हैं।

6. बालों के रोग

अमर बेल का काढ़ा सिर के बालों में नियमित रूप से लगाकर एक घंटे बाद उन्हें धोने से बाल बढ़ते हैं और काले होने लगते हैं।

7. घाव भरने में  

अमर बेल का चूर्ण, सोंठ का चूर्ण समान मात्रा में मिलाकर आधी मात्रा में घी मिलाएं और तैयार लेप को घाव पर लगाएं।

8. सुजाक व उपदंश में

अमर बेल का रस 2 चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार सेवन करने से कुछ ही हफ्तों में इस रोग में पूर्ण आराम मिलता है।

9. यकृत रोगों में

यकृत की कठोरता, उसका आकार बढ़ जाना जैसी तकलीफों में अमर बेल का काढ़ा 3 चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार कुछ हफ्ते तक पीना चाहिए।

10. रक्त विकार में

अमर बेल का काढ़ा शहद के साथ बराबर की मात्रा में मिलाकर 2 चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार सेवन करें।

जाने – अंजीर खाने के फायदे Anjeer Khane Ke Fayde Hindi Me

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*