आधासीसी के दर्द (Migraine) का घरेलू इलाज Migraine Home Treatment in Hindi

Migraine Headache Treatment At Home in hindi

आधासीसी के दर्द (Migraine) का घरेलू इलाज Migraine Home Treatment in Hindi – पारंपरिक रूप से सिरदर्द एकतरफा, चुभने वाला और मध्यम से गंभीर तीव्रता वाला होता है । आमतौर पर यह धीरे-धीरे आता है और शारीरिक गतिविधि के साथ बढ़ता है । यह दर्द पुरुषों की अपेक्षा स्त्रियों को अधिक होता है | कई बार आधासीसी या अधार्वभेदक (Migraine) का दर्द एक विशेष समय पर प्रारंभ होकर, कम-से-कम दो घंटे अथवा दो दिन के बाद स्वयं समाप्त हो जाता है |

माइग्रेन होने का कारण Migraine Headache Causes in Hindi

रोग के कारणों के संबंध में विशेष कुछ नहीं कहा जा सकता | परंतु कुछ विशेषज्ञों का विचार है कि सिर की रक्तवाहिनी नाड़ियों में विशेष प्रकार की संवेदना से यह दर्द प्रारंभ हो जाता है | यह रोग आनुवांशिक भी हो सकता है | कई व्यक्तियों को खट्टे फल, चॉकलेट, पनीर तथा शराब आदि पीने से भी यह दर्द आरम्भ हो जाता है | स्त्रियों को मासिक धर्म आरंभ होने के समय भी कई बार यह दर्द उत्पन्न हो जाता है |

माइग्रेन के लक्षण Migraine Symptoms in Hindi

यह दर्द सिर के एक भाग में होता है | इस दर्द का संबंध आखों की कमजोरी, मितली तथा उल्टियां आदि आने से भी है | कई बार इसके रोगी को चक्कर आने लगते हैं | मूर्छा सी छाने लगती है और आंखों, कान और गालों के आस-पास तेज दर्द होने लगता है | आंखों से पानी निकलता है | नाक बन्द हो जाती है | कुछ व्यक्ति आधे सिर के दर्द से अंधे भी हो सकते हैं | परंतु ऐसी संभावना बहुत कम लोगों में ही रहती है |

इन्हें भी पढ़ें –

माइग्रेन का उपचार Migraine Headache Treatment at Home in Hindi

1. आधासीसी के रोगी को कमरे में अंधेरा करके आराम से लेट जाना चाहिए | अधिक कष्ट होने पर ऐस्पीरीन आदि लेने से दर्द में आराम होता है |

2. प्रात:काल देशी घी हल्का गरम करें | जब सहन करने योग्य स्थिति में आ जाए तो रोगी को लिटाकर मुंह थोड़ा ऊंचा करें और साफ मेडिकेटिड रूई से दो-दो, चार-चार बूंदें उसकी नाक में टपकाएं | रोगी को आराम मिलेगा | कुछ दिन ऐसा करने से यह रोग सदा के लिए समाप्त हो जाता है |

3. सिर के जिस भाग में दर्द हो, पहले उस ओर के नथुने में घी की बूंदें टपकानी चाहिए | गरम करके ठण्डा किया हुआ सरसों का तेल भी उस ओर के नथुने में डालने अथवा सूघने से दर्द दूर होता है | पांच-सात दिन ऐसा करने से व्यक्ति रोगमुक्त हो जाता है |

4. लहसुन बारीक पीसकर जिस ओर सिर में दर्द हो उस ओर लगाने से दर्द समाप्त हो जाता है | अधिक देर तक लहसुन का लेप लगे रहने से त्वचा पर फफोले हो सकते हैं | इसलिए लेप करते समय सावधान रहना चाहिए | साफ करने के बाद बोरोलीन या मक्खन आदि लगाना चाहिए |

5. रात को सोते समय पैरों के तलवों में, विशेषकर बीच के भाग में मालिश करने से अचानक होने वाला सिरदर्द ठीक हो जाता है |

6. लौंग अथवा पुदीने को पीसकर दर्द वाली कनपटी पर लगाने से सिरदर्द में लाभ होता है |

7. सिर, माथे अथवा कनपटी में सर्दी लगने से दर्द हो तो जायफल पीसकर लेप करने से लाभ होता है |

8. छाया में सुखाए हुए तुलसी के पत्तों को मसलकर रोगी को सुंघाने से भी सिरदर्द में आराम मिलता है |

9. सिरदर्द अथवा आधासीसी के दर्द में प्रायः लोग सिर पर पट्टी बांध लेते हैं | यदि पट्टी बांधने से पहले सिर की हल्की मालिश कर ली जाए तो काफी शांति मिलती है |

10. अनेक रोगियों का सिरदर्द सूर्य के साथ घटता-बढ़ता रहता है | ऐसे रोगियों को यदि सूर्योदय से पूर्व गरम दूध में जलेबी मिलाकर खिलाई जाए तो लाभ होता है | अनेक रोगियों को सूर्योदय से पूर्व दही, चावल और मिश्री मिलाकर खिलाने से भी सिरदर्द ठीक होता है |

11. सिरदर्द के रोगी नियमित रूप से प्रात:काल देसी घी में काली मिर्च व मिश्री मिलाकर खाएं तो उन्हें लाभ होता है |

12. आधे सिर के दर्द में शहद भी लाभदायक है | अचानक सिरदर्द के समय उल्टी होने की स्थिति में मुंह साफ करके, दो चम्मच शहद चाटने से लाभ होता है |

13. तुलसी के पत्तों के चूर्ण में शहद मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें |

14. पान के पत्ते को हल्का-सा गरम करके सिर के जिस भाग में दर्द हो, वहां लगाने से लाभ होता है |

15. अजवाइन को कोयले अथवा तवे पर भूनकर सूघने अथवा उसका चूर्ण नसवार की तरह लेना भी प्रभावकारी कहा गया है |

16. पिसी हुई लौंग में थोड़ा नमक मिलाकर दूध में पेस्ट-सा बनाकर लेप करने से सिरदर्द में आराम होता है |

17. अदरक का रस भी अनेक प्रकार के दर्दो को शान्त करने में बहुत ही उपयोगी है | अदरक के रस की मलहम की तरह लगाने अथवा सौंठ के चूर्ण को पानी में लुगदी बनाकर लगाने से सिरदर्द में लाभ होता है |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*