बच्चे को स्नान कराने के समय का उठाये भरपूर लाभ

Baby bathing tips in hindi language

स्नान का समय बच्चे के लिए बेहद मजेदार, आरामदायक और मस्ती भरा समय हो सकता है। इसके साथ ही इस समय का भरपूर लाभ उठाते हुए आप उसे न केवल बहुत कुछ सिखा सकती हैं, बल्कि अपने लाडले और अपने बीच एक मजबूत रिश्ता भी कायम कर सकती हैं।

अमेरिकन एकेडमी आफ पीडीएट्रिक्स बच्चे को नहलाने के लिए ऐसी पद्धति की सलाह देता है, जो बच्चे की विभिन्न इंद्रियों के विकास में भी सहयोग करे | एकेडमी के दिशा- निर्देशों के अनुसार बच्चे के लिए स्नान को आरामदायक और सुकूनभरा अहसास बनाने की कोशिश की जानी चाहिए। साथ ही नहलाने के दौरान बच्चे से ज्यादा से ज्यादा बातचीत की जानी चाहिए और बेबी शैपू से उसके सिर की त्वचा की बेहद कोमलता से हल्की मालिश करनी चाहिए।

टब स्नान बच्चों को अधिक पसंद होता है Babies Like Tub Bath Most

नवजात शिशुओं को स्पॉन्ज स्रान की तुलना में टब में नहलाने पर ज्यादा आनंद मिलता है और वे ताजगी और चुस्ती-फुर्ती महसूस करते हैं। यानी स्पॉन्ज स्रान की तुलना में सुरक्षा का समुचित ध्यान रखते हुए टब में नहलाना अधिक फायदेमंद है। बच्चों के साथ ही माता-पिता के लिए भी इसके मनौवैज्ञानिक लाभ हैं। बच्चे को खुशबूदार स्रान करवाते समय मां भी सुकून और एक अलग तरह की खुशी महसूस करती है। बच्चे के स्पर्श को महसूस करते हुए अति आनंदित भी होती है।

 स्पर्श का एहसास दिलाये कई फायदे Touch Therapy Has Many Benefits

स्रान का समय बच्चे और मां दोनों के लिए दिन का सबसे महत्वपूर्ण समय होता है। यही वह समय है जब केवल o वे ही दोनों साथ होते हैं इसलिए इस | समय का भरपूर लाभ उठाएं। बच्चे की आंखों में देखें, उसे निहारें, दुलारें, उसकी नन्ही नाजुक उंगलियों को छुएं, उससे बातें करें। आपके स्पर्श से बच्चे और आपके बीच का संबंध और मजबूत होगा।

गर्भधारण से पूर्व सावधानियां और सुझाव Before Pregnancy Tips And Care

स्नान का समय होता है सीखने का समय Bathing Is Learning Time For Babies

मानें या न मानें, स्रान को आप अपने बच्चे के लिए बहुत सी बातें सीखन का समय बना सकती हैं। बच्चे को नहलाते समय उसके साथ खेलें और साथ ही उसे बताएं कि आप क्या कर रहे हैं। टब में आप उसके पसंदीदा खिलौने डाल दें। खिलौनों को छूकर, हाथ में लेकर वह नई चीजों की समझ विकसित करेगा। उसकी प्यारी सी डक, झुनझुना या कोई और खिलौना टब में डालें। उसे बताएं कि देखो यह कैसे तौर रही है | अलग-अलग रंगो और आकारों के प्लासिटिक के छोटे-छोटे ब्लाक या कप उसे दे | आपके लाडले को इनमे पानी भरने , एक कप से दूसरे कप में पानी डालने और निकालने जैसे खेलों में बेहद मजा आएगा | इस प्रकार जल्दी ही वह डूबना, तोरना, भरना, खाली करना जैसी कई बातें आसानी से सीख जाएगा |

बच्चे से बातें करें Talk To Your Baby While Giving Bath

मां की आवाज का बच्चे की शुरुआती सीख, समझ और भाषा के विकास में बेहद महत्वपूर्ण योगदान होता है। मां की आवाज और लोरी बच्चे के आहार संबंधी व्यवहार में भी बेहद सुधार करती है। ऐसे नवजात शिशु जो अपनी मां की आवाज ज्यादा सुनते हैं, उनके दिमाग के उस हिस्से में अधिक सक्रियता देखी गई जहां भाषा का विकास होता है। नहलाते समय अपनी मीठी आवाज से बच्चे को लोरी सुनाइए, विभिन्न खिलोनों के साथ उसे खेल में शामिल करते हुए टिवंकल  टिवंकल लिटिल स्टार जैसी कोई राइम  सुनाइए, बच्चा आपकी आवाज के साथ लगातार प्रतिक्रिया करने और आपसे बात करने की कोशिश करेगा जो उसके विकास में बेहद सहायक होगा |

स्नान को बनायें मनोरंजक और मजेदार Make Bath Entertaining

बच्चे को नहलाने के समय को मनोरंजक और खेल ही खेल में सीखने के समय के तौर पर इस्तेमाल करने के लिए पानी में खेले जाने वाले कई तरह के खिलौनों का प्रयोग कर सकती हैं जैसे कि रबर की बतख, रबर की नाव आदि। बच्चा हर रोज अपने स्रान का तभी भरपूर लाभ उठा पाएगा जब यह समय उसके लिए ज्यादा मजेदार होगा। इसलिए उसे नई गतिविधियों के द्वारा पूरी तरह अपने साथ जोड़ें। उसे टब पर बाथ स्टिकर्स लगाना सिखाएं, खिलौनों को पानी में डुबोना और तैराना सिखाएं, या फिर साबुन के बुलबुलों से खेलना सिखाएं। इस तरह वह पूरी रुचि से आपकी सिखाई चीजों को खेल-खेल में ही सीख जाएगा।

प्रेगनेंसी के बाद योग से पायें स्लिम-ट्रिम बॉडी After Pregnancy Yoga

स्नान के सुरक्षा और सावधानी बरतें Take Care While Bathing

स्रान के समय को मजेदार बनाने के साथ ही बच्चे की सुरक्षा का भी पूरा ध्यान रखें। नहलाते समय बच्चे को एक पल के लिए भी अकेला न छोड़े। स्रान से पहले ही सभी जरूरी चीजें जैसे बच्चे को लपेटने के लिए तौलिया, साबुन आदि पास में रख लें। उसके बाद ही बच्चे को लेकर आएं। पानी के तापमान का भी पूरा ध्यान रखें कि वह ज्यादा गर्म या ठंडा न हो। नवजात बच्चों की आंखें साधारण शैपू लगने से प्रतिक्रिया स्वरूप बंद नहीं होती। इसलिए बच्चे को नहलाने के लिए उनके लिए बने खास बेबी सोप और बालों को धोने के लिए कोमल और खास बने बेबी शैपू का ही प्रयोग करें ताकि उनकी आंखों में आंसू न आएं। नहलाने के बाद हल्के हाथों से थपथपाते हुए बच्चे के शरीर को पीछे और नमी को बनाए रखने के लिए बच्चे के पूरे शरीर पर बेबी लोशन अवश्य लगाएं।

नहलाने के बाद कैसा हो आपका बर्ताव  

नहलाते समय ही नहीं उसके तुरंत बाद का समय भी बच्चे के साथ जुड़ने के लिए बेहद उपयोगी होता है। नहलाने के बाद बच्चे को अपने साथ चिपटाएं। उससे पूछे कि क्या उसे स्रान में मजा आया। उसकी खुशी को सराहें और उसे पुचकारें। इस प्रकार बच्चे के स्रान का यह नियमित रिचुअल केवल उसकी साफ-सफाई के लिए विकास के लिए एक मजेदार और महत्वपूर्ण समय बन जाएगा।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*