ग्रीन टी में छिपा है सेहत का खजाना जानिए कैसे Green Tea Me Chipa Hai Sehat Ka Khajana Janiy Kaise

इससे पहले कि हम ग्रीन-टी के फायदों के बारे में जानकारी दें। हम अपने पाठकों को ‘ग्रीन टी क्या है’ उस बारे में बता देते हैं। ग्रीन टी कैमेलिया साइनेन्सिस पौधे से बनाया जाता है। इस पौधे की पत्तियों का उपयोग न सिर्फ ग्रीन टी बल्कि अन्य प्रकार की चाय जैसे ब्लैक टी बनाने में भी किया जाता है, लेकिन मानव स्वास्थ्य पर सबसे ज्यादा प्रभाव ग्रीन टी का देखा गया है। अगर बात करें ग्रीन टी और ब्लैक टी की, तो भले ही ये एक ही पौधे से मिलते हों, लेकिन, दोनों को बनाने का तरीका अलग है। ग्रीन टी का उत्पादन करने के लिए ताजे पत्तों को तोड़ने के बाद तुरंत भाप दी जाती है, ताकि ग्रीन टी का अच्छे से निर्माण हो(Green Tea Me Kai Aushdhiya Gunn) यह प्रक्रिया स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले प्राकृतिक पॉलीफेनोल्स को संरक्षित रखती हैं। वहीं, अगर बात करें पोषक तत्वों की, तो ये ग्रीन टी और ब्लैक टी में लगभग समान होते हैं, लेकिन ग्रीन टी में ब्लैक टी की तुलना में पॉलीफेनोल्स की मात्रा अधिक होती है। यही पॉलीफेनोल्स जो एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी हो सकते हैं(Green Tea Ke Fayde).

ग्रीन-टी है पौष्टिक तत्व से भरपूर Green Tea Hai Postic Tatva Se Barpur

ग्रीन-टी पौष्टिक तत्वों का खजाना है। इसमें कई ऐसे पौष्टिक तत्व हैं, जिनके बारे में आपको शायद ही पता होगा। बिना चीनी के ग्रीन-टी में बिल्कुल कैलोरी नहीं होती है(Green Tea Me Chipa Hai Sehat Ka Khajana)ग्रीन-टी में फ्लेवेनॉल और कैटेकिन मौजूद होता है, जो एक तरह का पॉलीफेनोल (पोषक तत्व) होता है, इसके कई फायदे हैं।

इनके अलावा, ग्रीन-टी में सबसे शक्तिशाली यौगिक ईजीसीजी मौजूद है, जिसे एपीगैलोकैटेकिन-3-गैलेट के नाम से भी जाना जाता है। इसके कई लाभ है और उनमें से एक है शरीर में मेटाबॉलिक दर का बढ़ना और वजन नियंत्रित रहना(Green Tea Ka Sevan Rakhe Healthy).

ग्रीन टी के है अनेक फायदे Green Tea Ke Hai Anek Fayde

ग्रीन टी सेहत के प्रति सजग लोगों में खासी पसंद की जाती है. ग्रीन टी के कई लाभ हैं. ग्रीन टी में पॉलीफेनॉल्स भरपूर मात्रा में होता है. पॉलीफेनॉल्स असल में एंटी-ऑक्सीडेंट व एंटी फ्लेमेटरी होते हैं, जो डायबिटीज के मरीजों में दिल के रोगों के खतरे को कम करने में मददगार है. ग्रीन टी उन लोगों के लिए बहुत बढ़िया है जो डायबिटीज से जूझ रहे हैं, क्योंकि डायबिटीज मेटाबॉलिक सिस्टम को बेहतर बनाती है. यह डायबिटीज के मरीजों के लिए भी फायदेमंद है(Green Tea Me Chipe Hai Anek Gun).

वजन कम करने में मददगार Weight Loss Karne Me Hai Madadgar ग्रीन-टी वजन कम करने में फायदेमंद हो सकती है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट, मेटाबॉलिज्म को बढाकर वजन कम करने में मदद करता है। इसमें मौजूद सक्रिय यौगिक, फैट बर्निंग हॉर्मोन को प्रभावित करते हैं। यहां तक कि व्यायाम के दौरान भी ग्रीन-टी फैट को कम करता है। यूके में हुए एक अध्ययन में पाया गया है कि ग्रीन-टी पीने और मध्यम तीव्रता के व्यायाम करने से फैट ऑक्सीडेशन बढ़ता है, जिससे मोटापे से बचा जा सकता है। वहीं, इंसुलिन संवेदनशीलता में भी सुधार लाता है। ग्रीन-टी में मौजूद ईजीसीजी जादू का काम करता है। ग्रीन-टी से मेटाबॉलिक रेट दर बढ़ सकता है और हर समय थोड़ी-थोड़ी कैलोरी कम होती है। यहां तक कि सोते समय भी ऐसा होता है। यहां हम स्पष्ट कर दें कि वजन घटाने के मामले में ग्रीन-टी पीने के साथ-साथ अपनी डाइट पर ध्यान देना भी जरूरी है। साथ ही नियमित रूप से व्यायाम व योग करना भी जरूरी है(Green Tea Rakhe Motape se Door).

मुंह के लिए है फायदेमंद Muh Ke Liye Hai Faydemand अध्ययनों के अनुसार, जो लोग हरी चाय यानी ग्रीन-टी का सेवन करते हैं, उनके मुंह में किसी प्रकार का संक्रमण नहीं होता। एक भारतीय अध्ययन में बताया गया है कि किस प्रकार ग्रीन-टी, पेरियोडोंटल (एक प्रकार की मंसूड़ों की बीमारी) से बचाने में मदद करती है। ग्रीन-टी, बैक्टीरियल प्लाक (दांतों की मैल) को नियंत्रित कर दांतों को खराब होने से भी बचाती है। ग्रीन-टी में मौजूद पॉलीफेनोल्स, ग्लोक्सीलट्रांसफरेस (एक तरह का बैक्टीरिया, जो चीनी खाने से मुंह में पैदा होता है) का अंत करके प्लाक से लड़ता है ।

डायबिटीज में है लाभदायक Diabetes Me Hai Labhdayak ग्रीन-टी शरीर की कोशिकाओं को संवेदनशील कर सकती है, ताकि वो चीनी को अच्छे से हजम कर सकें और मधुमेह के प्रभाव को कम कर सकें। इस तरह से कह सकते हैं कि ग्रीन-टी से डायबिटीज का खतरा कम हो सकता है, क्योंकि इसमें मौजूद पॉलीफेनोल्स (polyphenols) शरीर में ग्लूकोज के स्तर को संतुलित करते हैं। ग्रीन-टी, एंजाइम गतिविधि को रोकता है, जिससे रक्त प्रवाह में अवशोषित चीनी की मात्रा कम हो जाती है। ग्रीन-टी खासकर के टाइप-2 डायबिटीज में ज्दाया फायदेमंद है, क्योंकि इसमें एंटी-डायबिटिक गुण मौजूद हैं।

कोलेस्ट्रॉल को करे नियंत्रित Cholesterol Ko Kare Control हार्वर्ड मेडिकल स्कूल की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि ग्रीन-टी दिल की बीमारी से रक्षा कर सकता है। ग्रीन-टी हानिकारक कोलेस्ट्रॉल, जिससे ह्रदय रोग होने की आशंका बढ़ती है, उसके स्तर को कम कर सकती है। अधिकांश अध्ययन ग्रीन-टी कैप्सूल के उपयोग पर किए गए हैं, लेकिन चाय भी यह काम बखूबी कर सकती है।

रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाए Immuno deficiency Ko badhaye ग्रीन-टी में मौजूद कैटेकिन रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मुख्य भूमिका निभाता है। चाय इम्युनिटी को बढ़ाकर ऑक्सीडेंट्स के खिलाफ सुरक्षा करती है। ग्रीन-टी में ईजीसीजी रेगुलेटरी मौजूद होता है, जो टी सेल्स को बढ़ाता है और आपके इम्यून फंक्शन को नियंत्रित कर ऑटोम्यून्यून रोगों को बढ़ने से रोकता है।

ग्रीन-टी पाचन में सहायक Green Pachan Me Helpful ग्रीन-टी में एंटी-ऑक्सीडेंट होता है जो पाचन क्रिया को सुधरता है। ग्रीन-टी में मौजूद कैटेकिन पाचन एंजाइम की क्रिया को धीमा करता है। इसका मतलब है कि आंत सारे कैलोरी को अवशोषित नहीं करती, जिससे वजन कम करने में मदद मिल सकती है। ग्रीन-टी में ईजीसीजी होता है, जो कोलाइटिस के लक्षणों में सुधार करता है। कोलाइटिस एक प्रकार की सूजन होती है, जिससे पाचन क्रिया प्रभावित होती है। ग्रीन-टी में विटामिन-बी, सी और ई भी होता है, जो पाचन के लिए महत्वपूर्ण हैं। ग्रीन-टी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसरसे बचाने में भी मदद कर सकती है।

कैंसर को रकने में मददगार Cancer Ko Rokne Me Helpful नेशनल कैंसर इंस्टिट्यूट के मुताबिक, पॉलीफेनोल (विशेष रूप से कैटेकिन) चाय के एंटी-कैंसर गुणों के लिए जिम्मेदार हैं। इनमें से सबसे भरोसेमंद ईजीसीजी है। यह, अन्य पॉलीफेनोल के साथ मिलकर मुक्त कणों से लड़ता है और कोशिकाओं को डीएनए क्षति से बचाता है। ग्रीन-टी में मौजूद पॉलीफेनोल इम्यून सिस्टम की प्रक्रिया को भी ठीक करता है।

मुंहासों को करे ठीक Muhaso Ko Kare Thik मुंहासों की समस्या कभी भी और किसी को भी हो सकती है। मुंहासों के लिए लोग कई तरह की क्रीम का भी उपयोग करते हैं, लेकिन कुछ खास फर्क नहीं पड़ता है। ऐसे में ग्रीन-टी का उपयोग कुछ हद तक मुंहासों की समस्या को कम कर सकती है(Green Tea Laye Face Pe Nikhar).

ब्लड प्रेशर को करे कण्ट्रोल Blood Pressure Ko Kare Control ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से खून में फैट बढ़ता है, जिससे धमनियों में सूजन आ जाती है और यह उच्च रक्तचाप का कारण बनता है। वहीं, ग्रीन-टी पीने से इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण सूजन को कम करके रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकते हैं। यहां तक कि ग्रीन-टी हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को भी कम कर सकती है, जिससे ह्रदय संबंधी परेशानियां कम हो सकती हैं। ग्रीन-टी के नियमित सेवन से ब्लड प्रेशर नियंत्रित रह सकता है। इसके अलावा, कम रक्तचाप के मरीजों में कोरोनरी हृदय रोग और दिल के दौरे का खतरा कुछ प्रतिशत तक कम हो सकता है।

ग्रीन टी गठिया रोग से बचाए Green Tea Rog Se Bachay ग्रीन-टी में ईजीसीजी के एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव प्रमुख भूमिका निभाते हैं। ये शरीर में छोटे-छोटे मॉलिक्यूल (molecules) के उत्पादन को सीमित करते हैं, जो सूजन और गठिया दर्द का कारण बनते हैं। ग्रीन-टी हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार लाता है और ऑस्टियोअर्थइराइटिस (Osteoarthritis) जैसी समस्या में कुछ राहत दिला सकता है। ग्रीन टी में मौजूद ईजीसीजी अर्थराइटिस पर प्रभावी हो सकता है। ग्रीन-टी में मौजूद ईजीसीजी, रूमेटाइड गठिया (rheumatoid arthritis) में सूजन को कुछ कम करके राहत दिला सकता है। वहीं, अगर गठिया की समस्या गंभीर हो, तो डॉक्टर से चेकअप करवाना भी जरूरी है।

स्किन को मॉइश्चराइज करे Skin Ko Moisturize Kare बदलते मौसम के साथ त्वचा रूखी और बेजान होने लगती है। कई महिलाओं को बार-बार मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना पड़ता है, फिर भी रूखेपन से छुटकारा नहीं मिलता। ऐसे में ग्रीन-टी का इस्तेमाल करने से फर्क नजर आ सकता है। आप ग्रीन-टी को फेस पैक की तरह लगा सकते हैं।

  1. फेशिअल क्लीन्जर Facial cleanser
  2. ग्रीन-टी Green Tea
  3. स्प्रे बोतल Spray Bottal
  4. मॉइश्चराइजर Moisturizer
  5. तौलिया Towel

डार्क सर्कल को खत्म करे Dark Circle Ko Khtam Kare रात को देर से सोना या नींद पूरी न होना या काम का तनाव वजह चाहे कुछ भी हो, लेकिन डार्क सर्कल की परेशानी किसी को भी हो सकती है। डार्क सर्कल एक ऐसी चीज है, जो पूरे चेहरे का लुक खराब कर देते हैं। डार्क सर्कल को कम करने के लिए भी ग्रीन-टी का सहारा लिया जा सकता है।

  1. ग्रीन-टी के बैग को पानी में डुबाकर फ्रिज में थोड़े देर के लिए रख दें।
  2. अब इस ठंडे ग्रीन-टी बैग को अपनी आंखों के नीचे 10 से 15 मिनट तक रखें
  3. फिर अपना चेहरा पानी से धो लें।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*