अत्यधिक मासिक श्राव के लक्षण एवं घरेलु उपचार How To Stop Heavy Menstrual Bleeding

how to stop heavy bleeding during period hindi

आइये जाने अत्यधिक मासिक श्राव के लक्षण एवं घरेलु उपचार How To Stop Heavy Menstrual Bleeding In Hindi

कुछ स्त्रियों को नियमित रूप से अत्यधिक मासिक स्त्राव होता है। कुछ को यह समस्या कभी-कभी ही होती है। अत्यधिक मासिक स्त्राव का एक दुखदायी परिणाम यह होता है कि स्त्री के शरीर में रक्ताल्पता की आशंका बनी रहती है।

अत्यधिक मासिक स्राव होने के कारण (reason for heavy bleeding during periods) आपकी रोजाना की जिंदगी प्रभावित हो सकती है और साथ ही आपको सोशल और इमोशनल स्टिग्मा का सामना करना पड़ सकता है |

साथ ही महिला को खून में आयरन की कमी यानी एनीमिया का शिकार भी होना पड़ सकता है | इसके इलाज का तरीका इस बात पर निर्भर करता है कि आप के लक्षण किस प्रकार से हैं |

इसलिए इसकी जांच और इलाज के लिए आपको किसी डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है | लेकिन आप अपने खानपान और कुछ घरेलू औषधियों को इस्तेमाल करके इसमें कमी ला सकती हैं | जिनके बारे में हम आपको नीचे बताएंगे –

अत्यधिक मासिक श्राव का कारण Heavy Menstrual Bleeding Ka Karan

कुछ स्त्रियों में अत्यधिक रक्तस्त्राव का कोई स्पष्ट कारण नहीं होता जबकि अन्यों में हार्मोन्स का असंतुलन, श्रोणि संक्रमण आदि अत्यधिक रंक्तस्राव का कारण हो सकते हैं।

यह समस्या किसी भी औरत को बच्चे को जन्म देते समय हो सकती है | लेकिन वह महिलाएं या लड़कियां जिनको अभी-अभी में Menstruation शुरू हुआ है या वह महिलाएं जो मीनोपॉज की तरफ बढ़ रही हैं, उनके साथ यह समस्या अधिक होती है |

जो महिलाएं ओवरवेट हैं या कोई ऐसी दवाई ले रही हैं, जिसमें खून को पतला करने के तत्व पाए जाते हैं | उनमें अत्यधिक मासिक स्राव कष्ट हो होने की संभावना बढ़ जाती है |

इसके अलावा कई ऐसे संभव कारण है, जिसके कारण मासिक धर्म के दौरान अत्यधिक खून निकलता है (heavy bleeding during periods) | जैसे कि शरीर में हार्मोन का बैलेंस न होना, फाइब्रॉइड का होना या ट्यूमर का होना, मिसकैरेज हो जाना, किसी बर्थ कंट्रोल डिवाइस के साइड इफेक्ट के कारण |

[ इसे भी जाने – गर्भ निरोध के लिए घरेलू नुस्खे ]

अत्यधिक मासिक श्राव के लक्षण Heavy Menstrual Bleeding Ke Lakshan

मासिक धर्म के दिनों में अत्यधिक रक्तस्त्राव होना एक बहुत बड़ी समस्या होती होती है और यह ही अपने आप में एक लक्षण है ।

अत्यधिक मासिक स्राव की स्थिति तब मानी जाती है, जब मासिक धर्म का समय 7 दिन या इससे ज्यादा हो जाता है और महिला को 2 से 3 घंटे में सेनेटरी नैपकिन बदलने की जरूरत होती है |

साथ ही इस में खून के थक्के और अधिक मात्रा में मरोड़ के साथ पेट में दर्द होता है|  सांस लेने में परेशानी आती है | उल्टी होती है, सर दर्द होता है और अत्यधिक कमजोरी का अनुभव होता है |

अत्यधिक मासिक श्राव का उपचार Heavy Menstrual Bleeding Ka Upchar In Hindi

1. कोल्ड कंप्रेसर का इस्तेमाल करें cold compress for heavy bleeding during periods

cold compress women stomach stop cramping hindiimage source : WiseGeek

यदि आपको अत्यधिक मासिक स्राव यानी अधिक ब्लीडिंग हो रही है तो उसके लिए आप कोल्ड कंप्रेस का इस्तेमाल कर सकती हैं | कम तापमान होने की वजह से आपकी खून की नसें सिकुड़ जाएंगी जिससे खून का फ्लो कम हो जाएगा और साथ ही दर्द भी कम हो जाएगा |

कोल्ड कंप्रेस का इस्तेमाल कैसे करें –

  • किसी पतली टावेल में बर्फ के टुकड़े रखकर इसे अच्छी तरह से बांध दें
  • इसे अपने पेट में 15 से 20 मिनट के लिए रखें
  • लेटे रहें और कुछ समय तक रिलैक्स करें

यदि जरूरत होती है, तो इस उपचार को आप हर 4 घंटे में इस्तेमाल कर सकती हैं यानि जब तक आपको दर्द और अधिक ब्लीडिंग का अनुभव होता है तब तक |

2. गन्ने का सिरा या गुड़ का शीरा इस्तेमाल करें Blackstrap molasses for heavy bleeding during periods

गुड़ का शीरा, अत्यधिक मासिक स्राव होने के लिए बहुत ही प्रभावी घरेलु औषधि है | यह आयरन से भरपूर होता है, जिससे लाल खून की कोशिकाएं बनती हैं और मासिक स्राव के दौरान नुकसान हुए खून की भरपाई भी होती है | साथ ही साथ यह ब्लड की क्लॉट को भी कम करता है और यूटरिन की दीवार की मसल्स को आराम देते हुए दर्द को कम करता है |

गुड़ का शीरा कैसे इस्तेमाल करें

  • इसको इस्तेमाल करने के लिए आपको दो चम्मच गुड़ का शीरा, एक कप हल्के गुनगुने पानी या दूध में लेना है और इसे दिन में दो बार पीना है |
  • इसका दूसरा तरीका यह है कि आप एक चम्मच सिरे को लेमन ग्रास टी के साथ मिलाएं और इसे सुबह और शाम पिए तो आपको लाभ होगा |

इस घरेलू औषधि का असर देखने के लिए आपको कुछ महीनों तक इसका इस्तेमाल करना होगा

3. सेब के सिरके का इस्तेमाल करें Apple Cider Vinegar For Heavy Bleeding Treatment

अत्यधिक मासिक स्राव को कम करने के लिए आप सेब के सिरके का इस्तेमाल भी कर सकती हैं | यह आपके शरीर में मौजूद टॉक्सिंस को शरीर से बाहर निकालने का भी काम करता है और हार्मोन के बैलेंस को बनाए रखता है | इसके साथ ही यह क्रेंपिंग, सिर दर्द, चिड़चिड़ापन और थकान को भी दूर करने में मदद करता है |

अत्यधिक मासिक स्राव के लिए इसे कैसे इस्तेमाल करें –

  • इसके लिए आप, एक से दो चम्मच कच्चा (Raw) सेब का सिरका एक गिलास पानी में डालें
  • इसे आप दिन में तीन बार मासिक स्राव के दौरान पिए तो आपको अच्छा रिजल्ट सामने दिखेगा

4. धनिया के बीजों का सेवन करें Adhik Masik Shrav Rokne Ke Liye Dhaniya Ka Prayog

आयुर्वेद में धनिया के बीजों को अत्यधिक मासिक स्राव को रोकने के लिए इस्तेमाल किया जाता है | यह यूटरिन की गतिविधि को सुधारता है और महिलाओं के हार्मोन के बैलेंस को भी ठीक करता है |

धनिया के बीजों का कैसे इस्तेमाल करें

  • एक चम्मच धनिया के बीजों को दो कप पानी में डालें और इसे तब तक उबालें जब तक यह आधा न रह जाए
  • फिर इसे छान लें और थोड़ी शहद मिलाएं
  • इसे तब ही पी लें जब यह थोड़ा गुनगुना गर्म हो

इस नुस्खे को आप दिन में दो से तीन बार मासिक धर्म के दौरान पिए तो आपको फायदा होगा |

[ इसे भी जाने – मासिक धर्म की समस्या का घरेलू उपचार]

अत्यधिक मासिक श्राव को ठीक करने के अन्य घरेलू उपचार Adhik Masik Shrav Rokne Ke Upchar

1) नियमित रूप से व्यायाम करें। आहार में साग-सब्जी, फलों आदि का सेवन करने से इस विकार में बहुत लाभ होता है।

2) 100 ग्राम अशोक वृक्ष की छाल, 350 मिलीलीटर पानी में थोड़ी मात्रा में दूध के साथ उबालें। जब मिश्रण उबलकर चौथाई रह जाए तो इसका प्रतिदिन दो या तीन खुराकों में सेवन करने से अत्यधिक रक्त बहना बन्द हो जाता है। इसका सेवन मासिक धर्म के चौथे दिन से प्रारम्भ कर चक्र के अन्तिम दिन तक करना चाहिए। ताजे काढ़े का सेवन अधिक गुणकारी होता है।

3) तुलसी की जड़ का चौथाई चम्मच चूर्ण पान में रखकर खाने से अनावश्यक रक्तस्त्राव बंद हो जाता है। मासिक धर्म रुकने के बाद तुलसी के बीजों का सेवन करना बहुत लाभदायक है।

4) अनार के सूखे छिलके पीसकर छान लें। इसकी एक चम्मच मात्रा ठंडे पानी में दो बार खाने से रोग का उपचार होता है।

5) पौना गिलास गाजर के रस में चौथाई गिलास चुकन्दर का रस मिलाकर नित्य दो बार सेवन करने से मासिक धर्म सम्बंधी समस्याओं का उपचार होता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*