Piles Treatment At Home In Hindi बवासीर यानि पाइल्स के 10 घरेलू इलाज

bawasir ka gharelu ilaj in hindi

यहां जाने बवासीर यानि पाइल्स का घरेलू इलाज Piles Treatment At Home In Hindi – Bawasir Ka Desi Ilaj

Bawasir Kaise Hota Hai In Hindi

वातादि दोष जब कुपित होकर त्वचा, मांस तथा मेद को दूषित कर गुदा में मांस के अंकुर उत्पन्न करते हैं तो उसे बवासीर कहा जाता है। आयुर्वेद में वात, पित्त या कफ में से किसी के कुपित होने से बवासीर होना बताया गया है। कुछ समय पहले तक यह बीमारी काफी कम देखने को मिलती थी कितु आज पाश्चात्य प्रभाव व खानपान के नित बदलते तरीकों से भारी संख्या में वयस्क इससे ग्रस्त हैं। बवासीर होने का प्रमुख कारण कब्ज है। लंबे समय तक कब्ज बने रहने से बवासीर होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

[ और भी पढ़ें – > जाने कब्ज का आयुर्वेदिक घरेलू उपचार  ]

कब्ज रहने के साथ पित्त का प्रकोप या अम्लपित्त काफी लंबे समय तक बना रहे तो खूनी बवासीर (Khooni Bawasir) हो जाता है। लंबे समय तक कब्ज रहने से मल विसर्जन के समय अधिक जोर लगाने से गुदामार्ग की कोमल रक्तवाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं जो धीरे-धीरे फैलकर मोटी हो जाती हैं और बवासीर का कारण बनती हैं। Kabj Hone Se Piles Rog Ho Jaata Hai.

बवासीर का कारण Piles Hone Ke Karan In Hindi

अनजाने में उपरोक्त गांठे अनेक लोगों को हो जाती हैं। ये गांठे गुदाद्वार के एकदम भीतर होती हैं। जब व्यक्ति मल विसर्जन करता है तो इन गांठों से उसे काफी कष्ट होने लगता है तथा कभी-कभी रक्तस्राव भी हो जाता है। मलत्याग के समय रक्तस्राव इस रोग का सबसे प्रमुख लक्षण है। कई बार बवासीर गुदा के बाहर भी होता है। जिसमें मल विसर्जन के पश्चात मटर के दाने के आकार की गांठे उभर आती हैं जो कुछ समय पश्चात स्वत: ही गुदाद्वार के भीतर खिसक जाती हैं। मलत्याग के दौरान यह गांठे पीड़ादायक होती हैं। कुछ परिस्थितियों में इस रोग के निदान हेतु ऑपरेशन कराना अपरिहार्य हो जाता है (Piles Treatment Operation In Hindi)।

[और भी पढ़ें – >  खूनी बवासीर के 7 घरेलू उपचार Khooni Bawasir Ka Desi Ilaj]

बवासीर का घरेलू उपचार Piles Treatment At Home In Hindi Language

पाइल्स रोग बहुत कष्टकारी होता है | इसको ठीक करने के साथ इसे योग से भी ठीक किया जा सकता है (piles treatment yoga in hindi) और इस बारे बाबा रामदेव ने कुछ जानकारी दी है जिसे हम आपको अगली आर्टिकल बताएँगे (baba ramdev piles treatment in hindi). होमियोपैथ में भी इसका इलाज किया जाता है (piles treatment in homeopathy in hindi) लेकिन आज हम यहां आपको घरेलू उपचार के बारे में नीचे बता रहें हैं –

1. अमरूद से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी Amrud Se Piles Ka Treatment Hindi Me

बवासीर के कब्ज को दूर करने के लिए खाली पेट अमरूद खाना लाभदायक है। पके हुए अमरूद में छेद करके दो से छह माशा अजवाइन का चूर्ण भरकर छेद को उसी अमरूद के टुकड़े से बंद कर दें। उसके ऊपर मिट्टी का लेप करके आग में सेक लें। जब अमरूद अच्छी तरह पक जाए तो उसे निकालकर रातभर ओस में रख छोड़े। सुबह उठकर अमरूद की मिट्टी हटाकर चबा-चबाकर खाएं चार-पांच दिन ऐसा करने से बादी बवासीर पूर्णत: समाप्त हो जाता है।

2. आलूबुखारा से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी 

बवासीर के रोगियों के लिए आलूबुखारा उपयोगी फल है। पका हुआ सूखा आलूबुखारा खाने से बवासीर के रोगी को काफी लाभ होता | लेकिन इसे कुछ महीनों तक खाना चाहिए |

3. नीबू से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी Neebo Se Bawasir Ka Home Upchar

Lemon Juice And Gooseberry Make White To Black Hair

नीबू के रस को स्वच्छ महीन कपड़े से छानकर उसमें बराबर मात्रा में जैतून का तेल मिला लें। दो ग्राम की मात्रा रात को गुदा में प्रवेश कराएं इससे बवासीर की जलन व दर्द ठीक हो जाता है। गर्म दूध में आधा नीबू निचोड़कर तुरंत पी जाएं, लाभ होगा। कागजी नीबू काटकर उसमें पांच ग्राम कत्था पीसकर लगा दें। इसे रातभर खुला रखकर सुबह चूसें। इससे बवासीर में काफी लाभ होगा।

[और भी पढ़ें – > नीबू के द्वारा स्वास्थ्य Benefits of Lemon For Health]

4. आम से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी Mango Se Piles Treatment At Home In Hindi

mango aam khane ke fayde in hindi

आधा कप मीठे आम का रस व 25 ग्राम मीठा दही लेकर उसमें एक चम्मच अदरक का रस मिलाकर पीएं। यह मात्रा दिन में तीन बार लें। बवासीर ठीक हो जाएगा। आम की गुठली की गिरी निकालकर पीस-छानकर शीशी में भर लें। यह 250 ग्राम चूर्ण 100 ग्राम छाछ के साथ दिन में तीन बार सेवन कीजिए, बवासीर के मस्से सूखकर शांत हो जाएंगे।

5. गाजर से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी Gajar Se Bawasir Ka Upchar

बवासीर रोगियों के लिए गाजर एक उपयोगी फल है | इसके लिए 310 ग्राम गाजर के रस में 125 ग्राम पालक का रस मिलाकर पीने से बवासीर में काफी लाभ देखा गया है।

6. चुकंदर से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी Chukandar Se Piles Treatment At Home

बवासीर रोगियों के लिए चुकंदर एक उपयोगी है | चुकंदर के नियमित सेवन से बवासीर के मस्से सूखकर मिट जाते हैं| इसे लगातार 2 महीने तक सेवन करें |

7. जायफल से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी Jaifal Se Piles Ka Upchar At Home

बवासीर की स्थिति में जायफल को देशी घी में भूनकर उसका चूर्ण बना लें। इस चूर्ण में गेहूं का आटा मिलाकर फिर भलीभांति भून लें। इसे प्रात:काल बूरा मिलाकर नित्य दो चम्मच खाएं |

8. अदरक से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी Adrak Se Piles Ka Upchar Hindi Me

Adrak Khane Ke Fayde In Hindi. Ginger benefits

12 ग्राम सोंठ गुड़ के साथ लेने से लाभ होता है। अदरक की गांठ कुचलकर एक कप पानी में डालकर उबाल लें। जब पानी चौथाई कप बचे तब इसे उतारकर ठंडा कर लें। इसमें एक चम्मच शक्कर या मिश्री मिलाकर दिन में एक बार पीने से बवासीर ठीक हो जाता है।

[और भी पढ़ें – >  अदरक के औषधीय गुण Adrak Ke Fayde ]

9. ईसबगोल से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी Isabgol Treatment of Piles At Home In Hindi

जैसा कि पहले बताया जा चुका है बवासीर का प्रमुख कारण कब्ज है। ईसबगोल के प्रयोग से आंतों की सूजन और उनमें किसी भी प्रकार के जख्म की संभावना समाप्त हो जाती है। ईसबगोल के बीजों को पानी में भिगोकर प्रयोग करने से मलद्वार तक आंतों का पूरा मार्ग नरम हो जाता है तथा बवासीर के रोगी को दोहरा फायदा होता है।

10 पपीता से पाइल्स का उपचार इन हिन्दी 

बवासीर के मस्से पर ताजा कच्चे पपीते का रस कुछ दिनों तक लगातार लगाते रहने से मस्से कटकर गिर जाते हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*