मसूर दाल के आश्चर्यजनक फायदे – Red Lentils (Masoor Dal) Benefits in Hindi

Masoor Dal Health Benefits In Hindi

आइये जानते हैं, मसूर दाल के आश्चर्यजनक फायदे – Red Lentils (Masoor Dal) Benefits in Hindi

मसूर को आज हम अपने खाने की प्लेट में स्वादिष्ट खाने के रूप में परोसते हैं | इसमें कैलोरी की मात्रा कम होती है, जबकि यह न्यूट्रीशन से भरपूर होता है | मसूर को गर्मियों के मौसम में सलाद के रूप में भी खाया जाता है और साथ ही इसे ब्रेड साथ मिलाकर भी इसे खाते हैं | यह शाकाहारी भोजन का महत्वपूर्ण हिस्सा है |

हम अक्सर उस खाने को अधिक चुनते हैं जिन्हें पकाना आसान होता है और मसूर उनमें से एक है, जिसे किसी भी तरह के खाने के साथ शामिल किया जा सकता है | मसूर में मौजूद अधिक न्यूट्रीशन को कोई भी ले सकता है और अपने खाने को हेल्थी बना सकता है |

मसूर को हमारे घरों मे दाल के रूप मे अधिकतर प्रयोग किया जाता है,  परन्तु इसके कई औषधीय लाभ  है । नीचे इसके औषधीय लाभ का वर्णन किया गया है जिसे प्रयोग कर आप लाभ पा सकतें है ।

मसूर खाएं और यह स्वास्थ्य लाभ पाएं Masoor Dal Ke Fayde In Hindi 

1. मसूर कोलेस्ट्रॉल को कम करें Masoor Daal Reduce Cholestrol

क्योंकि मसूर में घुलने वाले फाइबर पाए जाते हैं, इसलिए यह ब्लड में मौजूद बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है | कोलेस्ट्रॉल कम होने से आपके खून की नसें साफ रहती हैं और हृदय रोग तथा हृदय घात का खतरा कम रहता है |

2. हार्ट को स्वस्थ रखें Masoor Dal Keeps Heart Healthy

कई स्टडीज से यह पता चला है कि मसूर जैसे फूड जो कि फाइबर से भरपूर है, उसको खाने से हार्ट से संबंधित रोग नहीं होते हैं | यह फोलेट (Folate) और मैग्नीशियम का भी अच्छा स्रोत है, जिनकी कमी से हृदय से संबंधित रोग होते हैं | फोलेट (Folate) होमोसिस्टीन का स्तर कम करता है, जोकि हार्ट रोगों का कारण होता है | मैग्नीशियम से शरीर में ब्लड का फ्लो बढ़ता है, ऑक्सीजन लेवल बढ़ता है और शरीर में न्यूट्रिएंट्स भी बढ़ते हैं | शरीर में मैग्नीशियम की कम मात्रा हार्ट के रोगों को बढ़ाती है; अतः मसूर का सेवन करना फायदेमंद होता है |

3. पाचन ठीक करें Masoor Se Digestion Rahe Theek

मसूर में पाए जाने वाले अघुलनशील फाइबर (Insoluble Fiber) कॉन्स्टिपेशन (Constipation) को ठीक रखते हैं | साथ ही पाचन संबंधी अन्य समस्याएं, जैसे – पेट में जलन, एसिडिटी में भी लाभ मिलता है |

[ इसे भी पढ़ें -> बाजरा के औषधीय गुण Bajra khane ke fayde

4. ब्लड शुगर को कंट्रोल करें Controls Blood Sugar

फाइबर के बहुत सारे अन्य फायदे भी मसूर खाने से मिलते हैं | इसमें मौजूद घुलनशील फाइबर, कार्बोहाइड्रेट को रोकता है जिससे ब्लड का शुगर लेवल नॉर्मल रहता है | यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से लाभकारी है, जिन्हें डायबिटीज यानी मधुमेह की समस्या है, इंसुलिन से समस्या है यानी हाइपोग्लाइसीमिया है |

5. अच्छा प्रोटीन मिलता है Good Source of Protein

सभी प्रकार की दालों और नट्स की तुलना में मसूर में तीसरे नंबर पर अधिक प्रोटीन पाई जाती है | इसमें 26% कैलोरी प्रोटीन के रूप में होती है जोकि शाकाहारी लोगों के लिए प्रोटीन का बहुत अच्छा स्रोत माना जाता है |

6. एनर्जी लेवल को बढ़ाता है Increases Energy Level

इसमें मौजूद फाइबर और कार्बोहाइड्रेट की वजह से यह एनर्जी को अधिक खर्च नहीं होने देता | मसूर आयरन का भी एक अच्छा स्रोत है जो कि शरीर में ऑक्सीजन को ठीक प्रकार से फ्लो होने के लिए जरूरी है | साथ ही इससे एनर्जी भी बढ़ती है और मेटाबोलिज्म भी ठीक रहता है |

7. वेट को कम करने में सहायक है Motapa Ka Kare

मसूर में हालांकि बहुत सारे न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं, जैसे – फाइबर, प्रोटीन, मिनरल्स, विटामिंस, लेकिन फिर भी इसमें कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है और फैट तो ना के बराबर ही होता है | एक कप पकी हुई मसूर में केवल 230 कैलोरी होती है, जबकि इसे खाने पर आपको भूख नहीं होगी और पेट भरा-भरा लगेगा |

[इसे भी पढ़ें -> ज्वार के औषधीय गुण – ज्वार के 13 फायदे ]

मसूर की दाल के अन्य फायदे – Masoor Dal Ke Anya Fayde

  • नेत्र ज्योति (Benefits On Eyesight) – देशी घी में मसूर की दाल छौंककर व तलकर खाने से नेत्रों का प्रकाश बढ़ता है।
  • वमन होना (Ulti Hone Ka Upchar) – वात पित्त कफ किसी कारण से वमन होने की स्थिति में मसूर का आटा अनार का रस और शहद समान मात्रा में मिलाकर जल के साथ लेना चाहिये।
  • खूनी बवासीर (Khoni Bavaseer Me Fayda) – प्रातः के भोजन में मसूर की दाल के साथ खट्टी छाछ (मट्ठा) पीने से खूनी बवासीर ठीक हो जाता है।
  • सौन्दर्य एवं चर्म रोग (Skin Rogo ME Fayde) – मसूर पीसकर उसका लेप या उबटन करने से चेहरे का रंग निखरता है और अनेक चर्म रोग दूर हो जाते है।
  • मसूर के सेवन से बहुमूत्र, कब्ज, गैस-ट्रबल, मुख पाक या छाले गले की सूजन (कंठ शोथ) वेदना, प्रदर और सूजन में लाभ होता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*