पपीता खाने के फायदे Papita Khane Ke Fayde In Hindi

papaya benefit in hindi

पपीता खाने के फायदे (Papita Khane Ke Fayde In Hindi Language)

पपीता एक फल है । जब कच्चा रहता है तो यह हरे रंग का होता है और पकने पर पीले रंग का हो जाता है । इसके कच्चे और पके फल दोनों ही उपयोग में आते हैं । कच्चे फलों की सब्जी बनती है । इसमें विटामिन ‘ए’ व ‘सी’ दोनों पाई जाती है पर इसमें विटामिन ‘ए’ की अधिकता है | इसमें बहुत सारे औषधिय गुण होने की वजह से ये रोगों को नष्ट भी करता है |

प्लीहा – यकृत-प्लीहा वाले रोगी को कच्चे पपीते के दूध की कुछ बूंदें 3-4 बताशे में भरकर दें या पका और मीठा पपीता खिलावें |

दांत दर्द – मसूढे में चमक चलने या दांतों में दर्द होने की स्थिति में कच्चा पपीते का दूध रुई के फाहे में लेकर लगाना हितकारी है |

पीलिया, तिल्ली बढ़ना – में नियमित पका हुआ पपीता खाना चाहिए |

पका पपीता खाने के लाभ – 1. पित्त नाशक 2. वीर्यवर्धक 3. उन्मादहारी 4. व्रण नाशक 5. क्षुधा वर्द्धक 6. भोजन को पचाने वाला 7. मूत्रल 8. मां के स्तनों में दूध बढ़ाने वाला 9. उदर-दाह 10. आध्मान 11. मूत्राशय के रोगों का नाशक 12. पथरी को गलाने वाला 13. श्लेष्मा के साथ जाने वाले रक्त का रोधक 14. खूनी बवासीर 15. पपीते का दूध लगाने से चर्म रोग नष्ट होते हैं 16. ऋतु धर्म को नियमित करने वाले एंव गर्भपात कारक होते हैं |

इसे भी पढ़ें- चीकू के अनेको फायदे जान हैरान रह जाएंगे आप

पपीते के रस का सेवन करने से – भूख न लगना, अनिंद्र, सिर का दर्द, आंव, अजीर्ण तथा अम्लपित्त का नाश होता है |

इसमें विटामिन ए होने के कारण- नेत्र विकृति, मूत्राशय एंव गुर्दे संबंधी व्याधि तथा शारीरिक वृद्धि में रूकावट आदि उपद्रवों से यह रक्षा करता है |

विटामिन सी होने के कारण यह अस्थि-विकृति, दंत रोग, रक्त भार में अतिवृद्धि, लकवा, उल्टी एंव ग्रंथि वात आदि में हितकर है |

सौन्दर्य वर्द्धक – अधिक पके पपीते के गूदे को मथकर उबटन की तरह चेहरे पर मलें | जब 15-20 मिनट बाद वह सूख जाये तो चेहरे को धोकर तौलिया से पोछकर तिल का तेल लगा लें | ऐसा लगभग एक हफ्ता करने से ही चेहरे की झुर्रियां, कलिमा व मैल समाप्त हो जायेगा और चेहरा साफ़, स्निग्ध, कोमल और ओजपूर्ण होकर खिल उठेगा |

पेट के कीड़े – पपीते के 10 बीज जल में पीस लें, उन्हें लगभग चौथाई कप पानी में मिलाकर पीयें | प्रतिदिन लगभग एक सप्ताह तक पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*