गर्भावस्था के दौरान व्यायाम और उनसे होने वाले लाभ Pregnancy Exercises in Hindi

Sitting Exercise During Pregnancy For Normal Delivery Hindi

आसन और आरामदायक प्रसव के लिए गर्भवती महिलाओं को कुछ जरूरी व्यायाम करना चाहिए | साथ ही डिलीवरी की बाद की परेशानी से भी बचा जा सकता है | तो आइये जानते है कुछ व्यायाम के बारे में जो डाक्टरों द्वारा Recommended है –

1. Squating Exercise स्क्वैटिंग व्यायाम

अपने पीठ को सीधा रखते हुए पालथी मारकर बैठ जाएं और अपने हाथ को जांघों की अंदरूनी हिस्सों पर रखें | पैरों को यथासंभव फैलाएं | यह प्राकृतिक प्रसव हेतु तैयार होने के लिए आदर्श व्यायाम है |

squatting exercise during pregnancy in Hindi

2. बैठ कर किया जाने वाला व्यायाम

कमर सीधी करके और पैरों को मोड़कर फर्श पर बैठे | कोहनी का उपयोग करते हुए दोनों घुटनों को धीरे-धीरे जमीन की तरफ दबाएं | इस व्यायाम से बेहतर प्रसव के लिए जांघ की मांसपेशियों को मजबूत बनाने और पेडू की मांसपेशियों के लचीलेपन को बेहतर बनाने में मदद मिलती है |

Sitting Exercise During Pregnancy For Normal Delivery Hindi

3. पिंडली को उठाने वाला व्यायाम

दोनों पैरों को दूर कर के दीवार की तरफ खड़े हो जाए | शरीर को थोड़ा आगे ले जाए, हाथ को दीवार पर दिखाते हुए धीरे-धीरे पैर की उंगलियों पर खड़े हो जाएं | पीठ में खिंचाव महसूस करते हुए सामान्य स्थिति में लौट आएं | इससे गर्भावस्था के दौरान मांसपेशियों की ऐंठन को रोकने में मदद मिलती है |

pregnancy exercise for normal delivery in hindi

4. पीठ की मांसपेशियों का व्यायाम (Cat and Camel Exercise)

रेंगने की स्थिति में आकर अपने शरीर को कोहनी व घुटनों पर टिकाएं | सांस लेने के दौरान सिर को उठाकर पीछे की तरफ झुकें | सांस छोड़ने के दौरान सिर नीचे करें और प्रारम्भिक स्थिति में लौट आएं |

cat and camel exercise for normal pregnancy in hindi

5. पीठ और कूल्हे का व्यायाम (Bridging Exercise)

घुटनों को मोड़कर और पैरों को जमीन पार सीधा रखते हुए पीठ के बल लेट जाएँ | नितम्ब व कमर को जमीन से थोड़ा ऊपर उठायें और फिर धीरे – धीरे नीचे जाएँ |

Bridging exercise during pregnancy in hindi language

6. कीगेल व्यायाम / पेडू की मांसपेशियों का व्यायाम (Kegel Exercise)

रोजाना केगेल व्यायाम करने से सामान्य प्रसव आसान हो जाता है | इस व्यायाम के माध्यम से पेडू की मांसपेशियों की टोनिंग हो जाती है जिससे डिलीवरी के बाद ब्लाडर लीक होने या पाईल्स होने का खतरा काम होता है |

prenatal kegel exercise for normal delivery in hindi language

गर्भावस्था के बाद योनि के टांको की हीलिंग को बढ़ावा देने की सलाह दी जाती है | इस व्यायाम का मुख्य लाभ यह है कि इसे कभी भी, कहीं भी और कैसे भी किया जा सकता है | इसे योनि, मूत्रमार्ग आर गुदा की मांसपेशियों को भींचकर किया जाता है | जैसे 5-10 सेकण्ड के किए पेशाब या शौंच को रोकने की कोशिश की जा रही हो | इस अभ्यास को दिन में तीन बार और एक बार में 10-20 बार दोहराया जा सकता है |

केगेल व्यायाम को अच्छे से समझने के लिए नीचे वीडियो देखें –

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*