सांप का विष (जहर) उतारने की दवा और उपचार Snake Bite Treatment

snake bite symptoms treatment

सर्प का नाम सुनते ही एकाएक मनुष्य अधिकांशतया भय से कांप उठता है. उसके सम्मुख एक भयावनी फनदार लंबी सी या गोल मिट्टी आकृति प्रस्तुत हो जाती है. परंतु वास्तव में इतना घबराने की कोई बात नहीं है. सभी सर्प विषैले नहीं होते. विशेषज्ञों में मतानुसार केवल उसे 4 प्रतिशत सर्प ही विषैले पाये जाते है. वैसे सर्प अकारण काटते भी नहीं, क्योंकि वह स्वयं एक डरपोक जन्तु है. सर्प अधिकतर भय की स्थिति, दबाव की परिस्थिति तथा छेड़ने की स्थिति में ही काटते है.

संसार में इसकी लगभग डेढ़ हजार जातियां पायी जाती है. सरकारी और गैर सरकारी आकड़ों के अनुसार विश्व मे लगभग पांच लाख प्राणी प्रतिशत इसके दंश के शिकार होते है परंतु मृत्यु केवल पांच प्रतिशत की ही होती है.

प्राचीन विष शास्त्रियों का कथन है कि विषैले सर्प का काटा रोगी 3 दिन तक नहीं मरता. अतः सर्प दंश के पश्चात रोगी की देखभाल करने चिकित्सकों को इसका पूरा पूरा ध्यान रखना चाहिए.

snake bite ka gharelu upchar

सर्प सर्दियों में कम ही बाहर निकलते है. ये वैसे गर्म तथा तर जलावायु के जन्तु है. हमारे देश में सर्पराज को देवता माना जाता है. देश के विभिन्न प्रदेशों में इसके मंदिर अवस्थित है. सपेरे इनको पकड़कर विष विहिन करके गली, मौहल्लों में लोगों का मनोरंजन कर अपनी जीविका उपार्जन करते है.

इसकी कैंचुली को चिकित्सक अनेक रोगों में व्यवहार में लाते है. प्रसूता स्त्रियों को प्रसव के समय से ठीक पूर्व कैंचुली का धूंवा देने से बच्चे से निर्गमन सरलता पूर्वक होता है. भयानक होने के साथ साथ यह जन्तु लाभदायक भी सिद्ध हुआ है. हमारे जैसे कृषि प्रधान देश के खेतों में सर्प रहकर फसलों की हानि पहुंचाने वाले चूहे, मेढकों, चिड़ियो एवं विभिन्न कीड़ों को अपना आहार बनाते है.

सुरक्षात्मक उपाय :

  1. गर्मी और वर्षा के दिनों में घर से बाहर जूते पहन कर एवं टार्च एवं रोशनी करने वाले उपकरणों आदि को लेकर निकलें.
  2. खेतों और जंगलों मे जाना हो, तो उपर्युक्त वस्तुओं के अलावा एक लाठी घुंघरू बंधी लेकर चले. ऐसा करने पर घुंघरू की ध्वनि को सर्प दूर से ही सुनकर आपका रास्ता छोड़कर भाग जायेगा.
  3. घर के अंदर और बाहर निकट में चूहों के बिल न बनने दें. कारण चूहों को खाने के लिए सर्प इनका पिछा करता हुआ उनके पीछे पीछे बिलों के अंदर तक जाकर बैठ जाता है.
  4. अपने रहने के स्थान के आस पास छोटे या बड़े गड्डे या कचरे के ढेर न हों, अन्यथा सर्प को रहने और छिपने को पर्याप्त स्थान मिल जायेगा.
  5. राई और नौसादर को समभाग लेकर पीस लें. इस चूर्ण को निवास के समस्त स्थान पर फैला दें. इससे सर्प उस स्थान में प्रवेश ही नहीं करेगा.
  6. नीम के पत्ते 2 तथा मसूर के साबत दाने 2, बैसाख की पूर्णिमा के दिन प्रातः निराहार खालें. यह एक अनुभव सिद्ध औषधि है. ऐसा करने पर प्रथम तो सर्प दंश एक वर्ष होगा ही नहीं और अंगर सर्प ने दंश कर भी दिया, तो विष का प्रभाव अत्यंत कम होगा. जिससे जीवन के लिए कोई खतरा नहीं.

सर्व सुलभ चिकित्सा

सर्प दंश हो जाने पर काटे हुए स्थान से काला सा रक्त कुछ लसीलापन लिये हुये बहने लगता है. दंश स्थान पर जलन, चुभन तथा शोथ हो जाती है. रोगी कमजोर एवं तंद्रायुक्त और सुस्त हो जाता है. रोगी का सिर नीचे की ओर झुक जाता है. चक्कर आने लगते है तथा रोगी भयभीत हो जाता है. श्वासवरोध भी पाया जाता है. मुख से कफ तथा झाग निकलने लगते है. किसी के विभिन्न अंगों से रक्त स्राव भी होता है. रोगी का रस ज्ञान प्रायः नष्ट हो जाता है. जैसे नीम के पत्ते, लहसुन, मिर्च आदि का वास्तविक स्वाद न अनुभव होना. यहाँ यह स्मरण रहे कि जैसा सर्प होगा वैसे ही वातज, पित्तज, कफज लक्षणों की अधिकता होगी. यह निश्चय हो जाने के बाद कि रोगी को सर्प ने ही काटा है हमे चाहिये कि-

  1. रोगी को बार बार बलपूर्वक कहे कि काटने वाले समस्त सर्प विषैले नहीं होते अतः उसकी बिलकुल घबराने की आवश्यकता नहीं है और उसकी जान को कोई खतरा नहीं है.
  2. रोगी को तेज चलाए या दौड़ाएं जाने से रोकें. कारण, ऐसा करने पर विष उसके शरीर में शीघ्रतिशीघ्र फैल जायेगा.
  3. रोगी को चाय या काफी पीने को दी जा सकती है परंतु मदिरा या मदिरा मिश्रित पेय कोई भी किसी मात्रा में नहीं दें. मदिरा जाति के पेयोग से विष की गति रक्त में बढ़ जाती है.
  4. रोगी को पूर्ण आराम की अवस्था में रखे परंतु सोने न दें.

उपर्युक्त व्यवस्थाओं को करने के पश्चात रोगी को पकड़कर उसके दंश स्थान के ऊपर एक मजबूत बंधन कस कर बांध दें. बंधन में रस्सी, रूमाल या किसी कपड़े का प्रयोग किया जा सकता है. प्रथम बंधन के थोड़ा ऊपर दूसरा बंधन और बांध दें. तत्पश्चात रूग्ण स्थल को मूलत्र अथवा स्वच्छ जल से प्रक्षालन करें. घाव को साफ करने के बाद किसी चाकू, ब्लेड या धारधार शस्त्र से आधा इंच लंबा तथा पाव इंच गहरा चीरा लगा दें. चीरा देने पर रक्त बहना लगेगा तथा उस स्थान का संचित सर्प विष भी उसके साथ बह जायेगा. कदाचित चीरा देने पर रक्त न निकलें, तो बंधनों को एक या दो मिनट के लिये ढीलें कर दें, रक्त बहना आरंभ होने पर पुनः बंधनों को सख्त कर दें. ऐसा करने के पश्चात घाव पर साधारण पट्टी बांधकर रोगी के निकटस्थ औषधालय में ले जायें और योग्य चिकित्सक की सेवाएं उपलब्ध करें. बंधन बांधते समय इस बात पर पूरा ध्यान रखे कि प्रति आधे घंटे के बाद बंधनों को एक एक मिनट के लिए खोले दिया करें.

सांप काटने का उपचार Saanp Katne Ka Upchar

सांप काटने पर रोगी की प्राथमिक चिकित्सा

  1. रोगी अगर मूर्च्छित हो गया हो तो कुचले को पानी में घोंट उसका पानी थोड़ा थोड़ा रोगी को पान करावें. कुछ गाढ़ा गाढ़ा कल्क रोगी की गर्दन पर भी मसलते रहें. इससे बेहोशी दूर होगी.
  2. किसी भी औषधि के अभाव में रोगी को उसका मूत्रपान करावें. अगर उसका स्वयं का मूत्र उपलब्ध न हो तो, रोगी को यदि वह पुरुष हो, तो स्त्री का मूत्र और अगर स्त्री हो तो पुरुष के मूत्र का पान करावें. मूत्र पान कराते समय रोगी को यह पता न लगने दें कि उसको मूत्र पान कराया जा रहा है.
  3. आम की गुठली की गिरी को यथेष्ट मात्रा में पीस कर उसका पेय जल रोगी को पिलावें. इससे रोगी को दस्त होंगे और विष निकलेगा. जब तक रोगी के शरीर मे विष होगा उपर्युक्त पेय कड़वा लगेगा, विष निकल जाने पर यही पेय मीठा लगने लगेगा.
  4. लहसुन को पीस कर दूध में मिलाकर रोगी को पान करावें. ऐसा करने पर एकाध घंटे में रोगी का विष घटने लगेगा.
  5. सर्प दंशित रोगी की चिकित्सा पूर्ण करने के बाद प्रतिदिन पूरे एक मास तक 2 से 4 तोला तक गौ घृत पान करावें. इससे रोगी के नेत्रों की हानि नहीं होगी.

किसी किसी सर्प दंशित रोगी को कुछ वर्षो तक दंश स्थान पर दर्द या मूंह से रक्त निर्हरण होता है ऐसे रोगियो को प्रवाल पिष्टी 2 रत्ती तथा सत्व गिलोय 4 रत्ती मधु के साथ दिन में दो बार पान करावें. खट्टे और गर्म पदार्थ खाने को न दें.

सांप काटने पर घरेलु चिकित्सा

  1. बेहोश आदमी को गोबर में दबाने से होश आ जाता है और जहर उतर जाता है |
  2. हुक्के के नाल की कीट पानी में घोलकर पिलाने से अथवा गुड़ के साथ मिलाकर गोली बनाकर खिलाने अथवा पुराने हुक्के का पानी पिलाने और घाव पर लगाने से साँप का असर जाता रहता है |
  3. नौसादर और सूखा चूना खूब बारीक अलग-अलग पीस कर शीशियों में रख लें और साँप काटने पर दोंनो को थोड़ा – थोड़ा मिलाकर दोनों नथुनों में फूकें| इस प्रकार दो तीन बार फूंकने से साँप का असर जाता रहेगा |
  4. अगर साँप ने आदमी को काटा है तो दूसरे आदमी का और यदि औरत को काटा है तो दूसरी औरत का पेशाब बिना बताये पिला दें इससे साँप का जहर दूर हो जायेगा |
  5. यदि शक हो कि साँप ने काटा है या नही तो कटी हुई जगह पर नीबू का रस या कच्चा नीबूं पीसकर मलें| यदि साँवला पड़ जाय तो समझें कि साँप ने काटा है, यदि न पड़ें तो समझे कि साँप ने नही काटा है |
  6. नीम के पत्ते चबाने पर अगर कडुआ मालुम हो तो समझना चाहिये कि विष उतर गया है, अगर कडुआ न मालुम हो तो समझे कि अभी विष नही उतरा |
  7. गाय के दूध में लहसुन की एक गांठ पीसकर पिलावें | इससे आधे घंटे में आराम हो जाएगा |
  8. हर प्रकार के जहरीले जानवरों अथवा कीड़ों के काटी हुई जगह पर पेशाब करना बहुत फायदेमन्द है |
  9. साँप के काटे हुए घाव पर उस समय तक आक का दूध भरते रहे, जब तक घाव दूध चुसना बंद न करे इससे अवश्य फायदा होगा |
  10. आधा सेर कडुवा तेल पिलावें | अगर उल्टी हो जाय तो फिर पिलायें | जल्द आराम हो जायेगा |
  11. पांच-छ: माशे तेल और तम्बाकू पानी में पीस कर पिलावें | यह साँप के जहर की अक्सीर दवा है |
  12. नीला थोथा सुरमें की तरह बारीक पीसकर दोनों नथुनों में पाँच-छ: बार फूँके इससे अवश्य लाभ होगा |
  13. दूब पीस करके उसका डेढ़ तोला रस पिलावें आधे घंटे बाद आराम होगा |
  14. नौसादर और राई पीस कर चूहे आदि के बिलों में डाल दिया जाय तो साँप भाग जायेगें और फिर नही आयेंगें | ये दानों चीजें साँप के लिए विष का काम करती है |
  15. काटी हुई जगह पर उतना भिलावे का तेल डालते रहे जितना कि घाव पी सके | इससे अवश्य लाभ होगा |
  16. साँप काटने पर प्यास का रस दो तोला व इसके बराबर सरसों का तेल मिलाकर आधा-आधा घन्टे पर तीन खुराक पिलाने से साँप का विष उतर जाता है तथा घाव को चाक़ू से थोडा काटकर नमक मिले गरम पानी से धोना चाहिये |

आवश्यक बात – साँप के काटते हि जहाँ तक जहर चढ़ चूका हो उसके ऊपर से मजबूत रस्सी से खूब कस –कर बाँध दें और नौसादर बारीक पीसकर दोनों आँखों में भर दें जिससे आँखों ख़राब न हों क्योकि जहर का असर सबसे पहले आँखों पर होता है | इसके बाद तुरन्त आधा शेर घी अथवा कडुवा तेल पिला दें और घाव को तेज औजार से काटकर (चोरकर) खून दबा-दबा कर निकाल दें | आग में लोहा गरम करके उससे घाव को जला दें और इसके बाद दूसरी दवा शुरू करें |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*