सुपर लाइफ स्टाइल क्या है और क्या हैं इसके नुकसान What Is Super lifestyle and Its Harms

super lifestyle in hindi language

सुपर लाइफ स्टाइल क्या है और क्या हैं इसके नुकसान What Is Super lifestyle and Its Side Effects

फास्ट फूड और लेट नाईट पार्टियां आज युवाओं का शौक बनती जा रही है, जिनसे उनका हाजमा खराब होता है और हृदय रोग, मोटापा जैसी बीमारियां घर कर लेती हैं |

अतः सुपर लाइफस्टाइल अपनाने से पहले विचार करे कि क्या यह आपके भविष्य के ठीक रहेगा !!

सुपर लाइफ स्टाइल क्या है What Is Super lifestyle?

आइये सबसे पहले यह जान लेतें हैं, कि सुपरलाइफ स्टाइल क्या है ? यदि आप इन आदतों को अपने सामान्य जीवन में अपनाते हैं तो आप सुपरलाइफ स्टाइल का जीवन जी रहें हैं –

  • फास्टफूड अभ्यस्त होना या आदत पढ़ना
  • देर तक जागना और लेट उठना आदि
  • लेट नाईट पार्टियों, डिस्को बार में जाना,
  • ऊंची आवाज में म्यूजिक सुनना
  • शराब सिगरेट व नशे की आदतें
  • शरीर पर टैटूज बनवाना

आज की आधुनिक पीढ़ी का लाइफ स्टाइल ही अलग है, वह किसी की नहीं सुनते | पिज्जा-बर्गर, चाइनीज फूड, सैंडविच, हॉट डॉग और कोल्ड ड्रिंक्स उनकी पहली पसंद हैं | चाहे उनसे उनका हाजमा ही क्यों ना बिगड़ जाए |

सुपर लाइफ इसटाइल तभी आनंद देता है, जब सुपाच्य और स्वस्थ पाचन शक्ति से शरीर भरा-पूरा रहे | सुपर लाइफ इस्टाइल में आए इन बदलावों का प्रभाव मेट्रो शहरों में साफ दिख रहा है | जब लाइफस्टाइल से जुड़ी चीजें, लोगों को अपने आसपास ही मिलेंगी तो वे उनके लाइफ स्टाइल का हिस्सा तो बनेंगी ही |

सुपर लाइफस्टाइल अपनाने की एक वजह स्वयं का आत्मनिर्भर होना भी है | आज ज्यादातर लोग घर का बना खाना खाने के बजाए होटल में खाना खाना पसंद करते हैं | चाउमीन, बर्गर, पिज्जा के साथ उन्हें कोक या पेप्सी ही चाहिए, मिनरल वाटर नहीं | क्योंकि यही उनका स्टाइल है |

आधुनिक जीवन शैली की व्यस्तता, खानपान की आदतों, एक्सरसाइज को नजरअंदाज करना, टाइम मैनेजमेंट के अभाव को देखते हुए विशेषज्ञ भी यह मानने लगे हैं, कि अब फास्ट फूड का जमाना है | युवा पीढ़ी अब ऐसा ही वातावरण चाहती है, जिसमें उसे फन, फूड और फ्रीडम तीनों मिल सके |

सुपर लाइफस्टाइल ने कई बीमारियों को जन्म दिया है इनमें से हृदय रोग और मोटापा भी हैं |

1. हृदय रोग का बढ़ता दायरा Heart Diseases Are Increasing Due Superstyle

कैलिफोर्निया में 200 से भी अधिक स्कूली बच्चों पर फास्ट फूड लेने के संबंध में हुए एक शोध से यह बात स्पष्ट हुई है, कि 80% से भी अधिक बच्चे फास्ट फूड खाते हैं जिनमें सेचुरेटेड फैटस् का स्तर सामान्य से अधिक होता है | 113 बच्चों में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ा हुआ पाया गया और प्रत्येक 10 बच्चों में से एक बच्चा हाइपरटेंशन का शिकार पाया गया |

फास्ट फूड को अपनाने की होड़ में उन्हें युवावस्था में ही हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल, ओवरवेट, हृदय रोग तथा पेड़ से संबंधित बीमारियां घेर लेती हैं |

[ इसे भी पढ़ें – हृदय (heart) को स्वस्थ रखने के 13 घरेलू नुस्खे]

2. मोटापा एक भयंकर रोग बन चुका है Motapa Is Biggest Disease Now

सुपर लाइफस्टाइल अपनाने की धुन के चलते बैलेंस डाइट की अनदेखी करना सबसे बड़ी मूर्खता है |

डॉक्टरों का मानना है कि अधिक मात्रा में जंग फूड कोल्ड ड्रिंक्स लेने से बच्चों में डायबिटीज, कैंसर और लीवर संबंधी मेजर हेल्थ प्रॉब्लम्स हो सकती हैं | लेकिन शरीर में जमा होने वाली अतिरिक्त चर्बी को नियंत्रित भी किया जा सकता है

[ इसे भी पढ़ें – मोटापा कम करने के घरेलू उपाय ]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*