8 टिप्स स्वस्थ प्रेगनेंसी के लिए Top Healthy Pregnancy Tips In Hindi

Tips For Healthy Pregnancy In Hindi

“स्वस्थ प्रेग्नेंसी चाहती हैं, तो खुद को फिट रखना भी बहुत जरुरी होता है | जब आप शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रहेंगी, तो आपका होने वाला बच्चा भी स्वस्थ रहेगा | इसलिए तन-मन की सेहत के लिए यह सुनिश्चित करें:”

Tip #1: फॉलिक एसिड (Folic Acid For Pregnant Ladies)

फॉलिक एसिड आपके अजन्मे शिशु में स्पाइना बिफिडा जैसे तंत्रिका ट्यूब दोष को विकसित होने से बचाता है। अन्य जन्म दोषों जैसे खंड तालु आदि को भी रोकने में मदद करता है| इसलिए  प्रेग्नेंसी ली प्लानिंग करते समय इसके बारे में डॉक्टर से जरुर पूछें |इसे आप नेचुरल तरीके से भी हासिल कर सकती हैं जैसे पालक,अंडे,फलियों आदि से |

Tip #2: एक्टिव रहें Be Active As Per Doctors Advice

प्रेग्नेंसी के दौरान हल्की फुल्की कसरत के साथ योग करना आपके लिए फायदेमंद रहेगा | डॉक्टर कि सलाह के अनुसार वही कसरत और योग करें, जो आपको गर्भावस्था में तंदरुस्त रखें | नियमित वाकिंग, साईकिल चलाना और तैराकी जैसी एक्सरसाइज चुन सकती हैं |

Tip #3: कम न हो कैलोरी Maintain Calori Intake Level 

प्रेग्नेंट महिला को रोजाना 300 अतिरिक्त कैलोरी कि जरुरत होती है | लेकिन कैलोरी कि जरूरतों को पूरा करने के लिए वसा और शर्करा यूक्त भोजन न लें | कैल्शियम, प्रोटीन,विटामिन आदि से भरपूर भोजन का सेवन करें | इससे आप कि हड्डियां मजबूत होंगी और बच्चे का विकास भी सही होगा | अतिरिक्त कैलोरी का स्त्रोत शुद्ध प्रोटीन भी हो सकता है | आपने आहार में सोया उत्पाद नट्स और बीन्स को शामिल करें |

Tip #4: वजन का रखें ध्यान Keep Your Weight In Mind

प्रेग्नेंसी प्लान कर रही हैं, तो सबसे पहले अपने वजन पर ध्यान दें | जरुरत से कम या ज्यादा वजन, दोनों से ही परेशानी हो सकती है | मोटापे के कारण न केवल गर्भधारण में कठिनाई होती है, बल्कि गर्भावस्था भी मुश्किलों भरी हो सकती है | अगर आपका वजन ज्यादा है, तो उसे नियंत्रित करने का प्रयास करें | शोध से भी यह बात साबित हुई है कि सामान्य वजन वाली महिलाओं कि अपेक्षा ज्यादा वजन वाली महिलाओं में जटिलता का खतरा रहता है |

Tip #5: डेंटल हाइजीन Dental Care During Pregnancy

गर्भावस्था में मसूड़ों के रोग होने कि संभावना बढ़ जाती है और मसूड़ों कि बीमारी से प्रीमैच्योर डिलिवरी का खतरा रहता है | इसलिए दातों और मसूड़ों कि जांच भी जरुरी है | डॉक्टर कि सलह पर नियमित रूप से ब्रश और फ्लास करें | दांतों से सम्बंधित कोई परेशानी हो, तो इसके लिए डेंटिस्ट से मिलें |

Tip #6: अब कैफीन नही what does caffeine do to a pregnant woman

अगर आप दिन में कई बार कॉफी या चाय लेती हैं, तो रोक लगा दें | इनमे कैफीन होती है, जो शरीर के लिए एक मात्रा से अधिक पहुचने पर हनी होती है | गर्भपात का खतरा, कैफीन कि मात्रा ज्यादा होने से होता है |

Tip #7: धुम्रपान नहीं Quitting smoking during pregnancy

धुम्रपान से ओवरी पर बुरा असर पड़ता है और आपके बच्चे को काफी तकलीफ हो सकती  हैं। इससे बच्चे के विकास पर भी असर पड़ सकता है | यही नहीं धूम्रपान कि वजह से मिसकैरेज कि भी  आशंका रहती है। ऐसे में अगर आप मां बजने की सोच रही हैं, तो धूम्रपान से परहेज करें और अपने पार्टनर को भी करने को कहें। अगर शराब लेती हैं तो इसे छोड़ दें, क्योंकि इससे प्रजनन क्षमता कमजोर होती है।

Tip #8: यात्रा संभलकर Avoid Journey During Pregnancy

गाइनोकोलॉजिस्ट डॉक्टर का कहना हैं कि प्रेग्नेंसी में शुरुआती तीन महीने और लास्ट के तीन महीने सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होते हैं | इस दौरान सफ़र करने से बचना चाहिए, क्यूंकि शुरुआती महीनों में मिसकैरेज का खतरा होता है | लेकिन  प्रेग्नेंसी हाई रिस्क पर है या फिर डॉक्टर ने जिन्हें पूरी तरह बेड रेस्ट की सलाह दी है, उनको यात्रा नहीं करनी चाहिए। अगर कहीं जाना जरुरी ही है, तो सफ़र पर जाने से पहले डॉक्टर से इस बारे में बात कर लें और उसके बताय निर्देशों का पालन करते हुए सभी दवाइयों को अपने साथ रखें |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*