त्रिफला खाने से होने वाले नुक्सान Triphala Churna Side Effects In Hindi

Triphala Churna Side Effects in hindi

Triphala Churna Side Effects In Hindi – त्रिफला एक आयुर्वेदिक औषधि है, जोकि कई तरह की बीमारियों को ठीक करने के लिए प्रयोग में लाया जाती है, जैसे आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए, पेट को साफ करने के लिए, कब्ज दूर करने के लिए | इसके अलावा इसमें खून को साफ करने के भी गुण होते हैं और यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है | त्रिफला में आंवला, हर्र और बहेरा तीन तरह की हर्ब डाली जाती हैं | त्रिफला, वैसे तो बहुत ही महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक औषधि है लेकिन इस औषधि का सही तरीके से प्रयोग नहीं करने पर और कुछ अवस्थाओं में इसके नुकसान भी हैं (Side Effects of Triphala Churna)  | इसलिए आज हम यहां पर आपको इसके नुकसान के बारे में भी बताएंगे |

डायरिया का हो जाना

त्रिफला एक बहुत ही पावरफुल पेट साफ करने वाली दवा है | यह आँतों (Colon) को बहुत अच्छी तरह से साफ करती है, इसलिए यह उन लोगों के लिए तो लाभदायक है जिनको कब्ज की समस्या है और उनके इस स्टूल को साफ करने की जरूरत है | लेकिन सामान्य लोगों को इसके सेवन से लूज मोशन (Lose Motion) हो सकता है | उन लोगों के लिए त्रिफला और अधिक नुकसानदायक है जिनकी आंतें सेंसिटिव (Sensitive) हैं और त्रिफला खाने से उन्हें डायरिया जैसे सिंपटम्स (Symptoms) हो जाते हैं जिससे कि बार-बार वाशरुम जाना पड़ सकता है |

डीहाइड्रेशन की समस्या

त्रिफला चूर्ण की अधिक मात्रा लेने से डीहाइड्रेशन की समस्या होती है | इसे ज्यादा लेने से यह पेट की सफाई की क्रिया को बढ़ा देता है, जिससे शरीर को ज्यादा पानी की आवश्यकता होती है और इसलिए यह डिहाइड्रेशन की समस्या को पैदा कर देता है और कभी-कभी स्थिति गंभीर भी हो जाती है |

इसे भी पढ़ें -> घुटने के दर्द का कारण व उपचार Ghutno Ka Dard Ka Ilaj Hindi Me

गर्भवती महिलाओं को त्रिफला का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए

ज्यादातर डॉक्टर गर्भवती महिलाओं को त्रिफला नहीं खाने की सलाह देते हैं | त्रिफला खाने से बच्चे पर भी असर होता है और यह भी माना जाता है कि इसके कुछ टाक्सिक (Toxic) इफेक्ट होते हैं जो बच्चे को भी पहुंचाते हैं |  त्रिफला मिसकैरेज (Miscarriage) का भी कारण बन सकता है | इसलिए गर्भवती महिलाओं को अपने और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए इस्तेमाल नहीं करना चाहिए |

पेट का खराब होना

यह त्रिफला का एक बहुत ही जानामाना नुकसान है | काफी लोग इसके खाने से अपने पेट में काफी प्रेशर और गैस महसूस करते हैं, हालांकि यह बहुत घबराने वाली बात नहीं है | लेकिन फिर भी, आपकी रोजाना की जिंदगी को यह दर्द परेशान कर सकता है | ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ज्यादा मात्रा में त्रिफला की डोज पचाने में नए लोग समर्थ नहीं होते है | इसलिए सबसे अच्छा तरीका यह होता है कि डोज को धीरे-धीरे बढ़ाया जाए, इकट्ठा एक ही दिन में ज्यादा माता में त्रिफला नहीं लेनी चाहिए |

आँतों में इसका प्रभाव

अधिक त्रिफला चूर्ण लेने से डायरिया हो जाता है, अगर डायरिया को ज्यादा समय तक ऐसे ही रहने दिया जाए और इसका इलाज नहीं किया जाए तो यह आंतों में सूजन जैसी समस्या पैदा कर सकता है, जिससे कि आपको हमेशा पेट की गड़बड़ी की का सामना करना पड़ सकता है | ज्यादा समय तक समस्या होने पर आंतों के मुलायम टिशू (Soft Tissue) टूट सकते हैं और यह आँतों की क्रियाशीलता को कम कर सकता है | ज्यादा समय तक ऐसी समस्या रहने से पाचन संबंधी कई समस्याएं हो सकती हैं |

सोने का रूटीन भी गड़बड़ा सकता है

काफी लोगों द्वारा ऐसा बताया गया है, कि जब से उन्होंने त्रिफला चूर्ण लेना शुरू किया है, तब से उनकी नींद में समस्याएं आने लगी है और वह कम नींद आने का शिकार हो गए हैं | लेकिन कुछ ही दिनों बाद जब शरीर एडजस्ट कर लेता है तब ऐसी समस्याएं धीरे-धीरे दूर हो जाती हैं | इसलिए त्रिफला खाने के बारे में यह सलाह दी जाती है कि आप इसकी डोज धीरे-धीरे बढ़ाएं और यदि आपको कोई समस्या बीच में ही महसूस होती है तो आप त्रिफला चूर्ण की डोज को कम कर दें | आप ऐसा भी ट्राई कर सकते हैं कि शाम को त्रिफला लेने की बजाए सुबह खाली पेट त्रिफला का चूर्ण लें | जब भी आप त्रिफला चूर्ण लें तो दिन में कम से कम 8 से 10 गिलास पानी अवश्य पिएं |

शरीर में ब्लड शुगर का बढना

रिसर्च से पता चला है कि इसमें त्रिफला में मौजूद आंवला शरीर के ब्लड में शुगर का लेवल बढ़ा देता है | यदि आप भी त्रिफला चूर्ण ले रहे हैं और आप ऐसा महसूस करते हैं कि आपका शुगर लेवल बढ़ गया है तो आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें और तुरंत ही त्रिफला चूर्ण लेना बंद करें | अच्छा होगा कि जो लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं वह त्रिफला चूर्ण बहुत ही कम मात्रा में लेना शुरू करें और यदि उनको ऐसी समस्या आती है तो त्रिफला चूर्ण एकदम ना लें |

इसे भी पढ़ें – Power Yoga and Its Benefits Hindi Me पावर योगा क्या है और क्या हैं इसके फायदे

जरूरत से ज्यादा वेट का घटना

कुछ लोगों का कहना है कि त्रिफला चूर्ण लेने के बाद उनके वेट में अचानक काफी कमी आई है | ऐसा इसलिए हो सकता है, क्योंकि उन्हें बार-बार टॉयलेट करने जाना पड़ता है और साथ ही आंतो के साफ होने से और टोक्सिन के निकलने से भी ऐसा हो सकता है | वेट लॉस होने से आप खुश हो सकते हैं, लेकिन तब जब आपका वेट ज्यादा हो, लेकिन यदि आप का वेट कम है तो आप के लिए यह परेशानी की बात है |

त्रिफला से आपको एलर्जी भी हो सकती है

कभी-कभी ऐसा भी देखा गया है, कि त्रिफला में मौजूद चीजें किसी के लिए एलर्जी भी पैदा कर सकती हैं; जैसे कि सांस लेने में परेशानी, मुंह में सूजन, गले में सूजन, त्वचा में चकत्ते पड़ना, खुजली होना आदि | यदि आपको भी त्रिफला चूर्ण खाने के बाद इनमें से कोई भी समस्या दिखती है तो आप इस चूर्ण को तुरंत खाना बंद कर दें और डॉक्टर से संपर्क करें |

कई दवाओं के साथ नेगेटिव इफेक्ट कर सकता है

रिसर्च में सामने आया है, कि कई ऐसे Drugs हैं जो त्रिफला के साथ नेगेटिवली रिएक्ट करती हैं | जैसे कि जिनमे p450 एंजाइम्स होते हैं | ऐसी कई दवाएं हैं जो p450 एंजाइम्स को लेकर बनी है जैसे कि acetaminophen, paracetamol, caffeine, ibuprofen [blood thinning medication]; warfarin and fluvoxamine [antidepressant drug], and diazepam | त्रिफला इन सभी ड्रग को काम करने के लिए नेगेटिव तरह से इंपैक्ट करता है | इसलिए आप अगर त्रिफला का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो बहुत ही कम मात्रा में लें | जिससे कि यदि आप इन दवाओ को ले रहे हैं तो आप पर कोई प्रभाव ना पड़े |

इसलिए हम आपको त्रिफला के बारे में यह सलाह देंगे कि आप त्रिफला का इस्तेमाल तो करें, लेकिन सही तरीके से और समझ-बूझकर करें | यदि आपको त्रिफला खाने से कोई नुकसान समझ में आता है तो इसको आप तुरंत बंद कर दे या शुरुआत में इसे कम मात्रा में ही लें और धीरे-धीरे इसकी मात्रा बढ़ाएं | अगर कोई समस्या आती है तो आप इसको खाना बंद करके अपने डॉक्टर से संपर्क करें और उन्हें पूरा बताएं कि त्रिफला चूर्ण खाने के बाद आपको कैसी समस्या का सामना करना पड़ा है |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*