वायरल बुखार के लक्षण और घरेलु उपचार Viral Bukhar Ke Gharelu Upchar

वायरल बुखार के लक्षण और घरेलु उपचार

मौसम में बदलाव के साथ ही शरीर में भी बदलाव होने लगते हैं. मौसम के इस बदलाव के कारण कई बार हम संक्रमण की गिरफ्त में आ जाते हैं. बारिश के मौसम में होने वाला ऐसा ही एक संक्रमण है वायरल बुखार (Viral Fever Ka Sankraman).

मौसम का बदलाव अपने साथ कई बीमारियां लाता है. जब शरीर इस बदलाव के लिए तैयार नहीं होता तब हम रोगों से ग्रस्त हो जाते हैं. हर बदलते मौसम के साथ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी उतार चढ़ाव (Rog Pratirodhak Kshamta Me Utaar Chadhaav) होता है. मौसम के बदलाव का यही असर वायरल बुखार के रूप में नजर आता है. वायरल बुखार वायरस से होने वाला संक्रमण है Viral Fever Ka Ilaaj in Hindi.

आमतौर पर इसका प्रभाव बारिश में देखने को मिलता है. जब शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है, तब व्यक्ति को वायरस का संक्रमण हो जाता है. सेहतमंद और प्रोटीन युक्त खाना खाने से शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता खुद निर्मित होती है. वायरल बुखार में संक्रमण कुछ दिनों से लेकर कई हफ्तों तक रह सकता है. संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने से हवा में फैलने वाले वायरस के संपर्क में जब स्वस्थ व्यक्ति आता है तो वह भी रोग से ग्रस्त हो जाता है.

इसके विषाणु सांस के माध्यम से शरीर में पहुंचते हैं. वायरल बुखार के वायरस गले में सुप्तावस्था में निष्क्रिय रहते हैं. ठंडे वातावरण के संपर्क में आते ही सक्रिय होकर हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को प्रभावित करते हैं. शिशुओं के लिए वायरल बहुत कष्टदायी होता है. किसी अन्य रोग के साथ मिलकर यह रोगी की परेशानी को और भी बढ़ा सकता है.

वायरल बुखार के लक्षण Viral Fever Ke Lakshan in Hindi

वायरल बुखार से पीड़ित व्यक्ति निम्न लक्षण (Symptoms of Viral Fever in Hindi) दर्शाता है.

  1. आंखों का लाल होना Red Eye in Viral Fever
  2. शरीर का तापमान 101-103 डिग्री या उससे भी ज्यादा हो जाना
  3. सर्दी जुखाम Cold During Viral Fever
  4. जोड़ों में दर्द व सूजन Viral Bukhar Ke Samay Jodo Me Dard Aur Sujan
  5. कमजोरी, थकान Kamjori Aur Thakaan
  6. गले में दर्द होना, खराश Gale Me Dard aur Kharaash
  7. नाक बहना Nose Ka Bahna
  8. सिर दर्द Viral Fever Me Sir Dard Ki Samasya
  9. भूख न लगना Bookh Na Lagne Ke Problem
  10. पूरा शरीर दर्द करना Body Ache During Viral Fever
  11. ठंड लगना Cold in Viral Fever

वायरल होने पर शिशु सुस्त पड़ जाते हैं. उनके शरीर का रंग पीला पड़ने लगता है. उन्हें श्वसन तथा स्तनपान में कठिनाई होती हैं. कुछ शिशुओं को उल्टी व दस्त भी होते हैं. इसके अतिरिक शिशुओं में न्यूमोनिया, कंठशोथ और कर्णशोथ जैसी जटिलताएं भी पैदा हो जाती है. अगर बच्चा खांसी से पीड़ित है तो यह रोग उसके तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकता है.

वायरल बुखार के घरेलू उपचार Viral Bukhar Ka Gharelu Upchar in Hindi

1. तुलसी से वायरल फीवर का उपचार Viral Bukhar Ka Upchar Tulsi Se

तुलसी में पाए जाने वाले एंटीसेप्टिक गुण वायरस से होने वाले आक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं. तुलसी के पत्तों के रस में अदरक का रस और शहद मिलाकर सेवन करने से बुखार का तापमान घटता है और गले की खराश में राहत मिलती है. Read More Here – तुलसी खाने के फायदे

2. सरसों का तेल Sarso Ke Tel Se Viral Fever Ka Upchar

वायरल होने पर शरीर के अंगों में कमजोरी और ऐंठन होने लगती है. इसके लिए 4-5 चम्मच सरसों के तेल में 4-5 लहसुन के दाने बारीक काट कर गर्म कर ले. लहसुन लाल होने तक उसे गर्म करते रहे. फिर हल्के गर्म तेल से पैर के तलवों और हाथ की हथेलियों पर मालिश करें. इससे दर्द में आराम मिलता है. Read More Here – सरसों के औषधीय गुण Sarson Tel Ke Fayde

अन्य घरेलु उपचार Viral Bukhar Treatment at Home

  1. पानी Drink More Water: बुखार होने पर रोगी को अधिक पसीना आता है. इससे शरीर से पानी की मात्रा कम होने लगती है. वायरल से पीड़ित रोगी को दिन भर में कम से कम 3 लीटर पानी पीना चाहिए. पानी को गर्म करके पीना ज्यादा फायदेमंद होता है.
  2. शहद Honey Benefit in Viral Fever: शहद को कई रोगों के इलाज में रामबाण की तरह इस्तेमाल किया जाता है. 2-4 लौंग पीसकर उनका पाउडर तैयार कर लें. एक चम्मच शहद मे इस पाउडर को मिलाकर दिन में 3 बार ले.
  3. बुखार का तापमान कम करने के लिए रोगी के सिर पर ठंडे पानी की पट्टियां रखने से लाभ होता है. तापमान कम होने तक इस प्रक्रिया को दोहराते रहना चाहिए.
  4. धनिया Dhaniya Ke Viral Fever Me Fayde : धनिए में एंटीबायोटिक गुण मौजूद होते हैं जो शरीर को वायरल संक्रमण के प्रति लड़ने की शक्ति देते हैं. एक गिलास पानी में एक चम्मच धनिए के बीज, दूध, चीनी डालकर उबाल लें. वायरल बुखार में इस मिश्रण को पीने से आराम मिलता है.
  5. डिल बीज Dil Seeds Benefits in Immunity Boosting: प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने और शरीर को आराम देने में डिल बीज का सेवन लाभदायक होता है. वायरल बुखार में यह एक शक्तिशाली रोगाणुरोधी एजेंट का कार्य करता है. एक कप पानी में डिल बीज और एक चुटकी दालचीनी डालकर उबाल लें. इसे छानकर गुनगुना ही पिए.
  6. चाय Benefits of Tea in Viral Fever in Hindi: चाय बच्चों में वायरल संक्रमण के कारण कई बार उन्हें दस्त लग जाते हैं. चाय में एक चुटकी काली मिर्च डालकर घोल ले. रोजाना 1-2 चम्मच चाय बच्चे को पिलाने से दस्त नियंत्रण में आ जाते हैं.
  7. चावल स्टार्च Rice Ke Fayde: प्राचीन समय से वायरल बुखार के इलाज में प्रयोग में किए जाने वाले उपाय है चावल स्टार्च. यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है. एक भाग चावल और आधा भाग पानी डालकर उबालें. चावल के आधा पकने तक इसे उबलने दें. इसके बाद पानी को अलग करके इसमें नमक मिलाकर पिए. वायरल बुखार में यह एक पौष्टिक पेय का काम करता है.
  8. अदरक Viral Fever Me Adrak Ke Fayde : अदरक प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है. एक कप पानी में 2 सूखे अदरक के टुकडे डालकर उबाल लें. जब यह थोड़ा उबल जाए तब इसमें हल्दी, काली मिर्च और चीनी डाल दे. दिन में 4 बार इसे थोड़ा थोड़ा पीने से वायरल में लाभ होता है.
  9. मैथी दाना Viral Fever Me Methi Dana Ke Benefits in Hindi: हर घर की रसोई में आसानी से उपलब्ध होने वाले मैथी दाने में कई औषधीय गुण होते हैं. आधा कप पानी में एक चम्मच मैथी दाने भिगोकर रात भर के लिए छोड़ दें. सुबह बीज निकालकर इस पानी का नियमित अंतराल पर सेवन करें. इससे वायरल बुखार में आराम मिलता है.

वायरल बुखार में ध्यान रखने योग्य बातें What to Take Care During Viral Fever

  • संतरा, मौसमी, नींबू जैसे विटामिन सी युक्त फलों का सेवन करें. इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली मजबूत होती है.
  • खूब पानी पिए. शरीर को हाइड्रेटेड रखें Drink More Water.
  • बच्चे के खानपान का खास ख्याल रखें.
  • जब भी पानी पिए, उसे गर्म करके पिएं. ठंडा पानी पीने से परहेज करें.
  • दही का सेवन न करें Do Not Use Curd.
  • फलों का सेवन करें. पर केला न खाएं, इससे कफ में वृद्धि हो सकती हैं Take Fruit as much as you can.
  • बच्चे को वायरल पीड़ित व्यक्ति के संपर्क से दूर रखें.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*