योनि में इन्फेक्शन और खुजली के घरेलू उपाय Yoni Me Infection Jalan Ka Upay

yoni me infection jalan khujli ka upay

आइये जानते है – महिलाओं की योनि में इन्फेक्शन और खुजली के कारण और घरेलू उपाय – ट्रीटमेंट फॉर इन्फेक्शन इन फीमेल प्राइवेट पार्ट Yoni Me Infection Jalan Ka Upay Hindi Me 

योनि में इन्फेक्शन जलन का कारण Yoni Me Infection Jalan Ka Karan

योनी अत्यंत संवेदनशील और कोमल यौनांग है. जिसमें से मूत्र त्याग के समय मूत्र के रूप में अनेक दूषित तत्व निष्काषित होते हैं. मूत्र त्याग के बाद स्वच्छ जल से प्रक्षालन नहीं करने से योनि से चिपके दूषित तत्व खुजली की उत्पत्ति कर देते हैं. पसीने की अधिकता के कारण भी योनि में तीव्र खुजली होती हैं. गर्भाशय के कुछ रोगों और श्वेत प्रदर के कारण भी योनि में खुजली होती है.

yoni infection ka gharelu desi upchar hindi

योनि में इन्फेक्शन और खुजली के घरेलू उपाय Yoni Me Infection Jalan Ka Upay Hindi Me

Gharelu Upay #1 – नीम की पत्तियों को जल में उबालकर, उस जल को कपड़े द्वारा छानकर योनि को स्वच्छ करने से इन्फेक्शन / खुजली की विकृति नष्ट होती हैं. दिन में कई बार योनि को नीम के जल से स्वच्छ करना चाहिए.

Gharelu Upay #2 – डिटोल मिले जल से योनि को स्वच्छ करने से इन्फेक्शन / खुजली का निवारण होता है.

Gharelu Upay #3 – कौंच की जड़ को जल से साफ करके 10 ग्राम मात्रा में लेकर, जल में देर तक उबालकर क्वाथ बनाएं. इस क्वाथ को छानकर सुबह शाम योनि का प्रक्षालन करने से इन्फेक्शन / खुजली की विकृति नष्ट होती है. योनि की शिथिलता भी नष्ट होती है.

Gharelu Upay #4 – आंवलों के 10 ग्राम रस में मिश्री मिलाकर कुछ दिनों तक सेवन करने से जलन के कारण होने वाली योनि की इन्फेक्शन / खुजली नष्ट होती है.

Gharelu Upay #5 – गिलोय, दंती और त्रिफला के क्वाथ से योनि का प्रक्षालन करने से योनि की इन्फेक्शन / खुजली नष्ट होती है.

Gharelu Upay #6 – 50 ग्राम गिलोय, बेल की शाखा के छोटे-छोटे टुकड़े काटकर थोड़ा सा कूटकर जल में उबालकर क्वाथ बनाएं. इस क्वाथ को छानकर योनि को दिन में कई बार साफ करने से इन्फेक्शन / खुजली की विकृति नष्ट होती है.

Gharelu Upay #7 – अपामार्ग की जड़ और पुनर्नवा की जड़ को जल्द से साफ करके, कूट पीसकर योनि में लेप करने से कुछ दिनों में इन्फेक्शन / खुजली नष्ट होती है.

Gharelu Upay #8 – सोंठ को जल में उबालकर क्वाथ बनाएं. इस क्वाथ को छानकर उसमें 25-30 ग्राम गुड़ मिलाकर सेवन करने से मासिक धर्म के कारण उत्पन्न योनि की इन्फेक्शन / खुजली नष्ट होती है.

Gharelu Upay #9 – नारियल के तेल में कपूर मिलाकर कांच की शीशी में भरकर रखें. स्नान के बाद उंगली से इस तेल को लगाने से खुजली नष्ट होती है. रात्रि में सोते समय तेल लगाने से जल्दी इन्फेक्शन / खुजली नष्ट होती है.

Gharelu Upay #10 – अमरूद के वृक्ष की जड़ को 50 ग्राम मात्रा में जल से धोकर, फिर जल में उबालकर क्वाथ बनाएं. इस क्वाथ को छानकर योनि को सुबह, दोपहर और रात्रि को सोते समय स्वच्छ करने से इन्फेक्शन / खुजली का निवारण होता है.

Gharelu Upay #11 – नीम के ताजे और कोमल पत्तों को 100 ग्राम मात्रा में लेकर, उसमें 5 ग्राम छोटी इलाइची के दाने मिलाकर जल में उबालें. इन दोनों चीजों का क्वाथ बनाकर योनि को दिन में दो तीन बार स्वच्छ करने से इन्फेक्शन / खुजली की विकृति नष्ट होती है.

Gharelu Upay #12 – योनि के आसपास नन्हीं फुंसिया होने पर नीम की छाल को जल के साथ घिसकर उन फुंसियों पर लेप करने से शीघ्र फुंसियों के नष्ट होने से इन्फेक्शन / खुजली भी नष्ट हो जाती है.

Gharelu Upay #13 – बड़ी कटेरी और हल्दी को 10-10 ग्राम मात्रा में लेकर, जल के साथ कूट-पीसकर, एक बत्ती बनाकर, थोड़ा सा सुखाकर योनि में रखने से योनि की इन्फेक्शन / खुजली व शोथ की विकृति नष्ट होती है.

Gharelu Upay #14 – चमेली के तेल में कपूर मिलाकर कांच की शीशी में भरकर रखें. दिन में दो-तीन बार इस तेल को योनि में लगाने से इन्फेक्शन / खुजली की विकृति का निवारण होता है.

Gharelu Upay #15 – चंदन का तेल 5-5 ग्राम और बावची का तेल 5 ग्राम मात्रा में मिलाकर दिन में दो तीन बार योनि पर लगाने से खुजली का निवारण होता है. चंदन के तेल में नींबू का तेल मिलाकर लगाने से भी खुजली का अंत होता है. योनि में कोई तेल लगाने से पहले डिटॉल मिले जल से योनि को स्वच्छ कर लेनी चाहिए. तभी इन्फेक्शन / खुजली का शीघ्र निवारण होता है.

Gharelu Upay #16 – कमल की जड़ को 10 ग्राम मात्रा में पीसकर योनि पर लेप करने से इन्फेक्शन / खुजली की विकृति नष्ट होती है.

Gharelu Upay #17 – खदिरसार (कत्था), हल्दी और विडंग को बराबर मात्रा में लेकर जल के छींटे मारकर, सिल पर पीसकर योनि में लेप करने से इन्फेक्शन / खुजली नष्ट होती है. किसी भी औषधि को सिल पर पीसने से पहले सिल को बहुत अच्छी तरह से जल से धोकर साफ कर लेना चाहिए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*