कुछ स्त्रियों को नियमित रूप से अत्यधिक मासिक स्त्राव होता है। कुछ को यह समस्या कभी-कभी ही होती है। अत्यधिक मासिक स्त्राव का एक दुखदायी परिणाम यह होता है कि स्त्री के शरीर में रक्ताल्पता की आशंका बनी रहती है। अत्यधिक मासिक श्राव का कारण कुछ स्त्रियों में अत्यधिक रक्तस्त्राव का कोई स्पष्ट कारण नहीं Read More →

मासिक धर्म सम्बंधी समस्याओं में दूसरी प्रमुख समस्या है कष्ट के साथ मासिक धर्म आना। कष्टकारी मासिक धर्म का कारण कष्ट से आने वाले मासिक धर्म का मुख्य कारण यह है कि हार्मोस के अधिक स्राव से गर्भाशय सिकुड़ जाता है और दूषित रक्त के स्रवित होने में बाधा आ जाती है। कष्टकारी मासिक धर्म Read More →

समय पर मासिक धर्म न होने का कारण मस्तिष्क तथा भावनात्मक अवरोध भी हो सकता है। इसके अतिरिक्त शिशु जन्म, अधिक व्यायाम या शारीरिक वर्जन में तेज उतार-चढ़ाव आदि भी इस रोग के कारण हो सकते हैं। क्षयरोग, खून की कर्म, कुछ विशेष औषधियों का सेवन या हार्मोन्स का असंतुलन भी मासिक धर्म में रुकावट Read More →

महिलाओं में विभिन्न प्रकार के यौन रोग होते है और उनका समय रहते इलाज हो जाने पर ज्यादा समस्याओं से सामना नहीं करना पड़ता है | इसके अलावा प्रजनन समबन्धी रोग भी महिलाओं को काफी परेशान करतें है | अतः महिलाओं के प्रजनन तंत्र के अंग स्वस्थ रहे तथा सुचारु रुप से कार्य करते रहे Read More →

कैथा उत्तर भारत में पाय जाता है और इसके कई औषधीय गुण है जिनका उपयोग कर स्वास्थ्य लाभ पाया जा सकता है | कुछ उपयोग नीचे दिये जा रहें हैं : गुण-धर्म कैथा का कच्चा फल कसैला, लघु एवं ग्राही होता है, जबकि पका फल गुरु यानि भारी एवं वात-पित और प्यास का नाश करने Read More →

medicinal properties of banana

केले के कई औधाधीय उपयोग है | यह स्वादिष्ट होने के साथ -साथ कई रोगों के इलाज में काम आता है | इसके कुछ उपयोग नीचे दिये गए है जिन्हें इस्तेमाल कर आप निरोगी रह सकतें है :- मुखपाक या छाले – गाय के दही के साथ कुछ दिनों तक केला खाने से छाले ठीक Read More →

शिशुओं के बिछाने-ओढ़ने तथा पहनने के कपड़े सदा हल्के, कोमल, साफ और सुगन्धित होने चाहिये। उनको कभी तंग कपड़े न पहनाना चाहिये। इससे फेफड़े, हृदय और पाकाशय को हानि पहुँचती है, श्वास लेने में कष्ट होता है, भोजन ठीक से नहीं पचता और रक्त का संचार भी भली-भाँति नहीं हो सकता। साथ ही अत्यन्त ढीले Read More →

बड़ी उम्र में प्रायः सबको अपने हिताहित का कुछ न कुछ ध्यान अवश्य रहता है। सभी इस बात की चेष्टा में रहते हैं कि उनको कभी कोई दुख न मिले। परन्तु शिशुओं के विषय में यह बात नहीं कही जा सकती। उनका सुखदुःख उनके माता-पिता के ऊपर निर्भर रहता है। विशेषकर प्रसव के समय तथा Read More →

पीलिया शरीर मेँ छिपे किसी अन्य रोग का लक्षण है | नवजात शिशुओं मेँ यह रोग सामान्य रुप से पाया जाता है | रोग के लक्षण धीरे-धीरे ही स्पष्ट होते है | एकदम से पीलिया होने की संभावना कम ही होती है | पीलिया रोग का कारण जब जिगर से आंतों की ओर पित्त का Read More →

मूत्र विसर्जन मेँ पीड़ा होने के बारे मेँ आज हम आपको यहाँ पर विस्तार से बताएंगे | यूरिन इंफेक्शन अर्थात मूत्र विसर्जन शरीर की एक सामान्य प्रक्रिया है| यदि इतनी स्वाभाविक प्रक्रिया कष्टकारी बन जाए तो उसके कारणो को जल्द से जल्द पहचानने की जरुरत होती है| इस दौरान पीड़ा होना प्राकृतिक नहीँ होता और Read More →