डायबिटीज में शरीर के अंदर ग्लूकोज की मात्रा अनियंत्रित हो जाती है  या ग्‍लूकोज़ की मात्रा अधिक हो जाती है तो यही ग्लूकोज पेशाब के माध्यम से बाहर निकलने लगता है | कभी शरीर में ऐसी भी स्थिति आती है शरीर ग्लूोकोज को जरूरत के हिसाब से शोषित नहीं कर पाता है | ऐसी स्थिति […]

{ Comments on this entry are closed }

डायबिटीज़ के लक्षण

by Ghar Ka Vaidya on March 16, 2014

डायबिटीज एक खतरनाक रोग का रूप धारण कर चुका है जिसका एलोपैथी में कोई सही इलाज नहीं होने के कारण आयुर्वेद में निर्भरता बढ़ गयी है | आयुर्वेद के माध्यम से इसा रोग पर काफी रोक लगा सकते है | इस रोग के कुछ लक्षणो के बारे में नीचे दिया जा रहा है लेकिन इसके […]

{ Comments on this entry are closed }

पुरूषों के गुप्त रोग और गलत आदतों की शुरुआत

February 5, 2014

जिस आनन्द की आदत युवा अथवा बाल्यावस्था की भूल से हो जाती है उसके फलस्वरूप वे गुप्त रोगों से ग्रस्त हो जातें हैं | अधिकाँश गुप्त रोगों के शुरूवात 14 से 18 वर्ष की उम्र में हो जाता है | दुराचारी जनों के सम्पर्क में, जो लोग अश्लील बातों को करके, सम्भोग के आनन्द का […]

Read the full article →

इमली के औषधीय गुण

January 16, 2013

इमली के औषधीय गुण (१)    वीर्य – पुष्टिकर योग : इमली के बीज दूध में कुछ देर पकाकर और उसका छिलका उतारकर सफ़ेद गिरी को बारीक पीस ले और घी में भून लें, इसके बाद सामान मात्रा में मिश्री मिलाकर रख लें | इसे प्रातः एवं शाम को  ५-५ ग्राम दूध के साथ सेवन […]

Read the full article →

आँवला के औषधीय गुण

November 30, 2012

पेशाब में जलन होने पर : हरे आंवले का रस 50 ग्राम , शहद 20 ग्राम दोनों को मिलाकर एक मात्रा  तैयार करे | दिन में दो बार लेने से मूत्र पर्याप्त होगा और मूत्र मार्ग की जलन समाप्त हो जायेगी | कृमि पड़ना – खान–पान की गडबडी के कारण यदि पेट में कीड़े पड़ […]

Read the full article →

नशा मुक्ति उपचार

October 10, 2012

शराब पीना और विशेषरूप से धूम्रपान के साथ शराब पीना बहुत ही खतरनाक है | इससे अनेकों रोग जैसे कैंसर (मुह का ), महिलाओं में स्तन कैंसर, आदि रोग होते है | ऐसे बुरे व्यसन (आदत) एक मानसिक बीमारी है और इसे को छुडाने के लिए मानसिक बीमारी जैसे इलाज की आवश्यकता होती है | […]

Read the full article →

अरबी, घुईया के औषधीय गुण

July 27, 2012

अरबी, घुईया के औषधीय गुण – जलना- जले हुए स्थान पर अरबी पीसकर लगाने से फेफोले नही पड़ते और जलन भी समाप्त हो जाती है। सूखी खासी- सूखी खासी में अरबी की सब्जी खाने से कफ पतला होकर बाहर निकल जाता है। हृदय रोग- बड़ी इलायची, काली मिर्च, काला जीरा, अदरक आदि से तैयार अरबी की सब्जी कुछ […]

Read the full article →

अदरक के औषधीय गुण

July 27, 2012

अदरक के औषधीय गुण अपस्कार मिरगी- गला रूध कर आवाज निकलना, बेहोशी, दात भिंच जाना, पीड़ा आदि की स्थिति में 25 ग्राम अदरक का रस निकालकर कुछ गर्म करके रोगी व्यक्ति को पिलाना चाहिये। बहुमूत्र- अदरक के रस में मिश्री मिलाकर सेवन कराने से बहुमूत्र में लाभ होता है। हृयद शूल या छाती की पीड़ा भी […]

Read the full article →

अजवायन के औषधीय गुण

July 27, 2012

अजवायन के औषधीय गुण वायु के दर्द या कफ जमने पर- किसी प्रकार का वायु दर्द हो या सन्धियों में पिड़ा हो अथवा उदर शूल हो या फिर सर्दी के कारण छाती में बलगम जम गया हो इन सभी मर्जो पर अजवायन के तेल की मालिश करनी चाहिये। अजवयान तेल वैसे तो बाजार में मिल जाता […]

Read the full article →

अलसी या तीसी के औषधीय गुण

July 27, 2012

अलसी या तीसी के औषधीय गुण और रोगों के इलाज के बारे में नीचे दिया जा रहा है – श्वास कास- 1. अलसी के दाने कूट छानकर जल में उबाल ले। उसके बाद पिसी मिश्री 20 ग्राम (जाड़े की ऋतु में शहद) मिला सेवन कराते रहने से श्वास कास में लाभ होता है। 2. अलसी के साबुत दाने 5 ग्राम चादी (चादी न हाने पर कासा) की कटोरी में 40 ग्राम […]

Read the full article →